अन्त्योदय व बी.पी.एल. कार्ड धारकों का गल्ला डकारने वाले दबंग कोटेदार के विरूद्ध जांच

0
207


पुरवा (उन्नाव) : ग्राम सभा के कोटेदार द्वारा अन्त्योदय व बी.पी.एल. कार्ड धारको का गल्ला डकारने वाले दबंग कोटेदार के विरूद्ध जांच कराये जाने पर पुलिस महानिरीक्षक खाद्य प्रकोष्ठ की जांच मे कोटेदार द्वारा अनियमितताएं पाये जाने पर जिलाधिकारी के आदेश पर पूर्ति निरीक्षक अधिकारी ने तीन माह पूर्व कोटेदार के विरूद्ध लिखाया गया मुकदमा ठण्डे बस्ते में गंभीर धाराओं मे अभियोग पंजीकृत होने के बाद भी सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान आज तक निलम्बित नही की गयी जिस पर गुस्साये ग्राम सभा के लोगो ने तहसील दिवस मे जिलाधिकारी के समक्ष पेश होकर दुकान को निलम्बित करनें की मांग की है।

प्राप्त विवरण के अनुसार मंगलवार को जिलाधिकारी अदिति सिंह की अध्यक्षता मे आयोजित तहसील दिवस मे विकास खण्ड असोहा की ग्राम पंचायत गोसाईखेड़ा में संचालित उचित दर सरकारी सस्ता गल्ले की दुकान के संचालक अषोक कुमार सिंह पुत्र मुन्ना सिंह निवासी ग्राम गोसाईखेड़ा थाना असोहा के विरूद्ध षिकायती पत्र देते हुए बताया कि दिनांक 21 दिसम्बर 2016 को पूर्ति निरीक्षक अंकित अग्रवाल के द्वारा थाना असोहा में मु.अ.सं. 417/2016 धारा 3/7, 409, 420, 467, 468, 471 आदि गंभीर धाराओं में अभियोग पंजीकृत कराया गयाा था परन्तु आज तक उक्त सरकारी सस्ता गल्ला की दुकान को निलम्बित नही किया गया वही उक्त काला बाजारी करने वाले कोटेदार की गिरफतारी भी नही हुई।

बताले चलें कि शासन के उ.प्र. सचिव के पत्रांक संख्या 2685/29-6-2016-55-स/दिनांक 08.12.2016 के साथ स्टाॅफ आॅफीसर मुख्य सचिव एवं अपर निदेषक (प्रशा.) का अधिषासकीय व अपर पुलिस महानिदेषक खाद्य प्रकोष्ठ खाद्य रसद विभाग उ0प्र0 तथा पुलिस महानिरीक्षक ए.के. मिश्रा द्वारा ग्राम पंचायत गोसाईखेड़ा विकास खण्ड असोहा तहसील पुरवा जनपद उन्नाव के उचित दर विक्रेता अषोक कुमार पुत्र मुन्ना सिंह के वितरण माह अक्टूबर 15 से माह मार्च 16 तक मे बरती गयी अनियमितताओं की जांच की गयी जांच मे विक्रेता द्वारा अपनी दुकान से सम्बद्ध (बी.पी.एल.) अन्त्योदय कार्ड धारको के कार्डों को न वितरित करके सूची में अंकित नामो को छिपाकर करीब 10 वर्षों से उनके आवंटन के खाद्यान/ चीनी को कालाबाजारी मे बेचकर अनुचित लाभ कमाया जाता रहा तथा विक्रेता द्वारा फर्जी व कूटि रचित अभिलेख तैयार कराने का दोषी पाये जाने की स्थिति में उचित दर विक्रेता के विरूद्ध आवष्यक वस्तु अधिनियम 1995 की धारा 3/7 व धारा 409, 420, 467, 468 व 471 के अन्र्तगत अभियोग पंजीकृत कराने की संस्तुति की गयी थी जिस पर उक्त कोटेदार के विरूद्ध जिलाधिकारी के आदेष पर थाना असोहा में अभियोग तो पंजीकृत करा दिया गया था परन्तु न दुकान का निलम्बन हुआ न ही गिरफतारी जिसके विरोध ग्राम के सूर्यभान सिंह, राजकिषोर, बाबूलाल, अनेन्द्र हीरालाल, शमषाद खां आदि तमाम लोगो ने जिलाधिकारी अदिति सिंह के समक्ष तहसील दिवस मे पेष होकर कार्यवाही की मांग की है।

रिपोर्ट – मोहम्मद अहमद

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here