30 सालों तक देश की सेवा करने के बाद, 6 मार्च को रिटायर हो रहा है आईएनएस विराट, जानें विशेष बातें

0
778
30 सालों तक देश की सेवा करने के बाद रिटायर होने वाला आईएनएस विराट

नई दिल्ली- आज भी समंदर के सिकंदर के नाम से जाना जाने वाला दुनिया का सबसे पहला विमानवाहक पोत आईएनएस विराट 6 मार्च को भारतीय नौसेना की लगातार 30 सालों तक सेवा करने के बाद 9 मार्च को रिटायर होने जा रहा है | इस बात की जानकारी सोमवार को वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा ने दी | आपको बता दें कि आईएनएस विराट ने भारतीय नौ सेना को 30 साल सर्विस देने से पहले वह रॉयल नेवी में 27 सालों तक अपनी सेवा दे चुका है |

रिटायर होने के बाद संग्रहालय में बदल जाएगा आईएनएस विराट-
दुनिया के सबसे पुराने विमानवाहक पोत आईएनएस विराट का उसके नौ सेना से रिटायर होने के बाद क्या किया जाएगा उसके जवाब में अधिकारियों ने बताया कि आईएनएस विराट को रिटायर होने के बाद एक विशालकाय संग्रहालय में तब्दील कर दिया जाएगा | बता दें कि इस मामले में नौसेना अधिकारी का कहना है कि आंध्रप्रदेश सरकार से उनकी बातचीत चल रही है और अगर सब ठीक रहा तो यह डील अवश्य हो जायेगी |

एडमिरल ने आगे कहा कि यदि आन्ध्राप्रदेश की सरकार इसे संग्रहालय बनाती है तो सूबे की सरकार के ऊपर उसके लिए अतिरिक्त 100 करोंड रूपये का भार आयेगा | दरअसल आपको बता दें कि कोई भी एयरक्राफ्ट करियर जितना लंबा और विशाल काय होता है उसके रखरखाव का भी खर्चा उतना ही अधिक होता है | जब तक वह विशाल जहाज ऑपरेशनल होता है तब तक उसके लिए नौसेना हर व्यवस्था करती है लेकिन रिटायर होने के बाद नौसेना के लिए यह थोड़ा मुश्किल होता है |

विराट की विदाई में शरीक होंगे रॉयल नेवी के अधिकारी –
6 मार्च को भारतीय नौसेना के बेड़े से आईएनएस विराट को हटाए जाने के दौरान ब्रिटिश रॉयल नेवी के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे | यह विमानवाहक युद्धपोत भारतीय नौसेना में शामिल होने से पहले 27 साल रायल नेवी की सेवाएं दे चुका है | तब इसका नाम एचएमएस हार्मेस था |
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY