पुत्र के स्वदेश वापसी के इन्तेज़ार में बेसुध माता-पिता

0
51

मऊ (ब्यूरो)- घोसी नगर से सटे मानिकपुर असना में निवास कर रहे एक माता-पिता अपने पुत्र और पत्नी अपने पति को पाने की चाहत में पिछले 22 माह से खून के आंसू रो रही है और सरकार व प्रशासन से जुड़े लोगों से घर बुलाने की गुहार लगा रहे हैं।

ज्ञात हो कि स्थानीय नगर से सटे मानिकपुर असना में अपना मकान बनवाकर निवास कर रहे मधुबन तहसील क्षेत्र के चकउत (सूरजपुर) निवासी नेयाज अहमद सपरिवार निवास करते हैं। विगत लगभग दो वर्ष पहले नेयाज अहमद का पुत्र इरफान अहमद रोज़ी रोटी के सिलसिले में सऊदी अरबिया गया।जाने के कुछ ही माह बाद वहां इरफान अहमद एक सड़क दुर्घटना में बुरी तरह घायल हो गए।जिन्हें भारत बुलाने के लिये सरकार के ज़िम्मेदार लोगों से परिजनों ने गुहार लगाई।लेकिन इन गरीब माता-पिता व बेबस पत्नी की गुहार उनके कानों तक नहीं पहुंच सकी।

परिजनों के अनुसार सही उपचार व देखभाल के अभाव में उसकी एक किडनी भी खराब हो गई।इस परिवार की सुधि लेने जब मीडियाकर्मी नेयाज के घर पहुंचे तो उनके, उनकी पत्नी और इरफान की पत्नी तबस्सुम के आंसू देखकर वो भी भावुक हो उठे।एक तो घर के एकमात्र कमाऊ सदस्य की इस हाल से जहां इस परिवार को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है वहीं परिजनों को मानसिक दबाव भी बना हुआ है।और एक ही रट कि सरकार व प्रशासन में बैठे ज़िम्मेदार लोग इरफान को कब स्वदेश लाएंगे।

रिपोर्ट- ऋषि राय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here