मीडिया और हिन्दू वाहिनी संगठन की सक्रियता के चलते हुई अगवा छात्रा की जाँच, दुष्कर्म की पुष्टि

0
75
प्रतीकात्मक फोटो

सुल्तानपुर(ब्यूरो)- गोमती के किनारे पांचोपीरन इलाके में बेहोशी की हालत में मिली छात्रा सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हुई थी। चिकित्सीय परीक्षण में इस बात की पुष्टि हुई है। पुलिस ने मामले में अपहरण का मुकदमा ही दर्ज किया था। छात्रा का 48 घंटे बाद तब चिकित्सीय परीक्षण कराया गया। जब हिंदूवादी संगठनों ने विरोध शुरू कर दिया। सोमवार को यह बालिका स्कूल जाने के लिए घर से निकली थी। रास्ते में गोलाघाट के निकट बाइक सवार युवकों ने उसे अगवा कर दुष्कर्म का शिकार बनाया था। बेहोशी की हालत में पाए जाने के बावजूद पुलिस चिकित्सीय परीक्षण से कतराती रही। दो दिन तक तो पुलिस अधिकारी यही कहते रहे कि उसके साथ दुष्कर्म हुआ ही नहीं। जबकि छात्रा ने अपने बयान में ही सामूहिक दुष्कर्म की बात कही थी। पिता ने इसी आरोप के दृष्टिगत तहरीर भी दी थी। लेकिन मुकदमा दर्ज करने में पुलिस ने मनमानी की। मुकदमा केवल अपहरण की धाराओं में शहर के करौंदिया राहुल व पांचोपीरन निवासी सद्दाम के खिलाफ दर्ज किया गया था।

बुधवार को जब विरोध शुरू हुआ तो मेडिकल परीक्षण कराया गया। महिला चिकित्सालय की मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ. उर्मिला चौधरी ने बताया कि डॉ. आनंद सिंह ने छात्रा का मेडिकल किया है। जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई है। पुलिस अब भी इस मामले में कुछ कहने से कतरा रही है। हालांकि पुलिस अधिकारी कह रहे हैं कि मेडिकल रिपोर्ट मिलने के बाद धारा बढ़ाई जाएगी।

ऐसे बना दबाव- अखबारों में खबर प्रकाशित होने के बाद हिन्दू वाहिनी संगठन सक्रिय हो गए। बुधवार को हिन्दू युवा वाहिनी के जिला मंत्री प्रिंस सिंह, देवेश सागर व भाजपा नेत्री पूजा कसौंधन की अगुआई में दर्जन भर कार्यकर्ता कोतवाली नगर पहुंचे। उन्होंने छात्रा का चिकित्सीय परीक्षण कराने को लेकर पुलिस पर दबाव बनाया। जिसके बाद अपराह्न करीब तीन बजे उसका मेडिकल किया गया।

रिपोर्ट- दीपक मिश्रा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here