तहसील प्रशासन की लापरवाही के कारण नहीं हुई कोटेदारों की जांच

0
144

चकलवंशी/उन्नाव(ब्यूरो)- जनपद में गरीबी से जूझ रहे ग्रामीणों ने दो बार लिखित शिकायत की उसके बाद भी तहसील के अधिकारियों ने जांच नहीं की गई। जिलाधिकारी के आदेशों की खुले आम धज्जियां उड़ाई जा रही | शिकायत के बाद भी राशन धारकों को दर-दर भटकना पड़ रहा है| ग्रामीणों द्वारा  कोटेदार व सप्लाई इंस्पेक्टर पर आरोप लगाये गये सरकारी राशन की दुकान पर बङा खेल किया जा रहा जिलाधिकारी की उपस्थिति में मंगलवार तीसरे माह तहसील दिवस भी हुआ था। तहसील दिवस में 06/06/2017 को जनपद के आलाधिकारी पहुंचने के बाद भी गरीब राशन कार्ड धारकों को दर-दर भटकना पड़ रहा है |

जानकारी के अनुसार घटतौली व राशन मूल्य से अधिक की जा रही है फिर भी इस ओर तहसील प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है कारण स्पष्ट हुआ है कि जो आरोप कोटेदार पर राशन धारकों ने लगाया है वह सही साबित हो रहा है 280 शिकायतों में एक यह भी समस्या उजागर हुई है| जिलाधिकारी के आदेशों की खुले आम संबंधित अधिकारी धज्जियां उङा रहे जबकि दस दिन का समय दिया गया कि सभी शिकायतों का निस्तारण हो जाना चाहिए उसके बाद भी गरीब जनता की आवाज बंद कर दी गई।ग्रामीणों में राशन को लेकर आक्रोश व्याप्त है| पीङितों ने कहा अब मुख्यमंत्री जी से शिकायत करेंगे। हसनगंज विकास खंड मियांगंज क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायतों में मवई बृम्हनान, ताजपुर, पनापुर कला, लगलेसरा, सिर्स कन्हर, गोबारि, सिध्दनाथ, आसीवन, मल्हीमऊ आदि ऐसे दर्जनों गांव है, जहां राशन धारकों ने तहसील दिवस में तीन माह बाद जिलाधिकारी अदिति सिंह पहुंची अपनी बात को लेकर राशन पीङितों ने सरकारी राशन की दुकानों के खिलाफ दो बार लिखित शिकायत हुई कि राशन घटतौली व राशन व केरोसिन मूल्य से अधिक हो रही है और दुकानों पर राशन माफियाओं का कब्जा कायम है, कोटेदार बहुत बड़ी धांधली कर रहा है| जिस नाम से दुकान आवंटन हुआ है वह कभी मिलता ही नहीं है राशन माफिया दुकान पर कब्जा जमाए हुए हैं वो दबंगई से वितरण करता है और यह भी कहता है कि अगर कुछ बचायेंगे नहीं तो ऊपर नेताओं व अधिकारियों को क्या खिलायेंगे |

ग्रामीणों ने बताया कि सरकार को भी अपनी धांधली में बदनाम कर रहा है उसके बाद भी विधायक जी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया जबकि जांच करानी चाहिए नहीं हुई राशन धारकों ने कोटेदार की कार्यशैली व धांधली से परेशान होकर दिवस में जिलाधिकारी महोदया से लिखित शिकायत की गयी| आज सोलह दिन हो गये परन्तु तहसील का कोई अधिकारी जांच करने नहीं पहुंचा| यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि ग्रामीणों ने कहा कि कोटेदार सही कह रहा था हम सप्लाई इंस्पेक्टर भाष्कर व नेताओं को हर महीना चढौका चढाते हैं आप लोग कुछ भी नहीं कर पाओगे जबकि तहसील दिवस में जिलाधिकारी ने निर्देशित किया था| दस दिन में शिकायतों का निस्तारण हो जाना चाहिए उसके बाद भी तहसील प्रशासन ने ग्रामीणों की पीड़ा को अनदेखी कर दिया गया| ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है कोटेदारों की जांच कराकर कार्यवाही होनी चाहिए। जनपद के आलाधिकारी से भला होने वाला नहीं है अब मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी जी को फैक्स करके न्याय की मांग की जायेगी।

रिपोर्ट- जितेन्द्र गौड़ 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here