वेटलिफ्टिंग के खेल में आयरन वूमेन सुचेता-माधवी ने दिखाए फौलादी इरादे

0
40

धनबाद(ब्यूरो)- वेटलिफ्टिंग पुरुषों के वर्चस्व वाले इस खेल में धनबाद की दो महिला खिलाड़ी अपनी पहचान बना रही हैं। कतरास की आयरन वूमेन सुचेता और धनबाद की माधवी ने जिले की पहली महिला वेटलिफ्टर बनने का गौरव हासिल किया है।

बेकारबांध की रहने वाली माधवी अपने बढ़ते वजन को लेकर चिंतित थी। वजन कम करने के लिए अपने भाई के साथ जिम ज्वाइन किया तो वहां लड़कों को वेटलिफ्टिंग करते देखा। लड़कों को इससे जुड़ा देख उसने भी अपने कोच से वेटलिफ्टिंग की इच्छा जताई।

इस खेल से जुड़कर माधवी ने पिछले साल सितंबर में नेशनल मेडल जीता था। माधवी अभी इसी माह होने वाले झारखंड स्टेट पावरलिफ्टिंग की तैयारी कर रही है। नेशनल में माधवी ने 120 किलो का वजन उठाया था।

माधवी हर दिन धनबाद से कतरास सिर्फ अभ्यास करने के लिए जाती है। कहती है कि घरवाले बहुत सपोर्ट करते हैं। वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीतना चाहती है।

सात साल के बच्चे की मां बनीं वेटलिफ्टर।
कतरास की रहने वाली सुचेता झारखंड की पहली महिला है, जो इस खेल से जुड़ी। उनके पति देवी चटर्जी अंतरराष्ट्रीय स्तर के वेटलिफ्टर हैं।

सुचेता का सात साल का बेटा है, बावजूद इसके वह वेटलिफ्टिंग करती है। वह योग और एरोबिक की अच्छी शिक्षक भी है। झारखंड में वेटलिफ्टिंग की सिर्फ छह खिलाड़ी है, जिसमें से दो धनबाद की ही रहने वाली है।

रिपोर्ट-गणेश कुमार

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY