CBSE Exam में भी समस्तीपुर में होती रही है डकैती, पटना वाले श्रीवास्तव जी हो गए मालामाल

0
61

समस्तीपुर/पटना ब्यूरो : बहुत कुछ खंगालने का समय है. अभी चर्चा में समस्तीपुर है. बिहार बोर्ड के इंटर टॉपर गणेश के फर्जीवाड़े के कारण देश-दुनिया की मीडिया रोज समस्तीपुर पहुंच रही है | पड़ताल की शुरुआत सबसे पहले लाइव सिटीज ने की थी. समस्तीपुर में कितने माफिया,किस्से बताने वाले कई सामने आ रहे हैं | नई-पुरानी बातें हो रही हैं  कुल जमा, समस्तीपुर की पहचान बिहार में डिग्री की फर्जी फैक्ट्रीज के कैपिटल के रुप में हो रही है |

 

लाइव सिटीज की स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम जब फर्जी टॉपर गणेश और ताजपुर के चकहबीब के भाजपा नेता के स्कूल के सच को तलाश रही थी, तो समस्तीपुर के और कई राज परत-दर-परत खुल रहे थे | बहुत कुछ अपने भीतर समेटे एक शख्स ने समस्तीपुर में कहा, आपने सिर्फ BSEB की परीक्षाओं के बारे में सुना है क्या ? कभी CBSE के एग्जाम के वक़्त भी समस्तीपुर आकर देखिये चौंक जायेंगे, न होटल में जगह मिलेगी-न लॉज में. रेला ऐसा मिलेगा, मानों समस्तीपुर में कोई फेस्ट चल रहा हो. फैशन के रंग दिखेंगे |

 

स्टोरी बता रहे शख्स ने पटना के किसी श्रीवास्तव जी का नाम लिया. कहा,लौटकर पटना में शिक्षा में खेला करने वाले किसी से भी पूछ लीजिएगा. सबों को पता है. समस्तीपुर ने श्रीवास्तव जी को कंगाल से मालामाल कर दिया. उन्हें समस्तीपुर का अहसान आजीवन मानना होगा | कुछ साल पहले तक पटना में कुछ नहीं था बस, बोलने को प्राइवेट स्कूल का छोटा सा बोर्ड और किराये का मकान था, स्कूल का नाम एंग्लो इंडियन टाइप का रखा हुआ है | पढ़ाई से वास्ता कम, फर्स्ट क्लास की गारंटी के साथ CBSE बोर्ड एग्जाम का ठेका लेते थे  | समस्तीपुर में गजब की सेटिंग थी 500-1000 छात्र लेकर पटना से आते और यहां के स्कूल से शामिल कराते. सेंटर खरीद लिया जाता था फिर, रिजल्ट तो बल्ले-बल्ले किस्म का आना ही था |

 

श्रीवास्तव जी की शोहरत बिहार के बाहर भी फैली, परीक्षा और वह भी CBSE, श्रीवास्तव जी की राह पर कई चल पड़े, समस्तीपुर में CBSE की गारंटी देने वाले कई स्कूल पैदा हो गए हैं | कुछ ही वर्षों में श्रीवास्तव जी ने इतना कमाया कि पटना में कई एकड़ में अपना स्कूल खोल CBSE की मान्यता ले ली, अब उन्हें फॉर्म भराने के लिए समस्तीपुर आने की जरुरत नहीं होती है, सभी जरुरतों को पूर्ण करने के लिए CBSE में जबर्दस्त जुगाड़ है |

 

श्रीवास्तव जी की तरक्की देख शिष्य परंपरा में कई और लोग आगे आ गए,जिन्हें हर साल समस्तीपुर लाल कर रहा है, समस्तीपुर में BSEB का खेल सस्ता है, CBSE का महंगा,  स्टूडेंट एकदमे भुसकोल है, तो उनके लिए राइटर आदि की व्यवस्था भी हो जाती है | चलते-चलते शख्स ने कहा-सच को नंगी आंखों से देखने को अगले साल 2018 में CBSE की परीक्षा के वक़्त समस्तीपुर का EXAM TOURISM देखने जरुर आइयेगा |

रिपोर्ट – आशुतोष कुमार सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY