कंधार प्लेन हाईजैक के पीछे था पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI का हाथ – अजीत ढोबाल

0
334

ajit dobhal

नई दिल्ली- भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और पूर्व आईबी चीफ अजीत डोभाल ने खुलासा किया है कि वर्ष 1999 में हुए कंधार विमान हाईजैक के पीछे पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI का हाथ था | भारत के सुरक्षा सलाहकार और पूरे इंटेलिजेंस जगत में भारत के जेम्स बांड के नाम से मशहूर अजीत ढोबाल ने बताया कि इंडियन एयरलाइंस के जिस विमान को आतंकियों ने अगवा किया था उन्हें पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी का पूरा समर्थन प्राप्त था |

मायरा मैकडॉनल्ड की किताब ‘डिफीट इज ऐन ऑर्फन: हाउ पाकिस्तान लॉस्ट द ग्रेट साउथ एशियन वॉर’- में किया जिक्र
बता दें कि एन.एस.ए. अजीत ढोबाल ने मायरा मैकडॉनल्ड की किताब ‘डिफीट इज ऐन ऑर्फन: हाउ पाकिस्तान लॉस्ट द ग्रेट साउथ एशियन वॉर’ की किताब में अपने बीते दिनों को याद करते हुए वर्ष 1999 में कंधार प्लेन हाई जैक का जिक्र किया है | आपको बता दें कि उस समय हाईजैकर्स से बात चीत करने के लिए जिस टीम का गठन किया गया था उसमें से ढोबाल भी एक थे |

ढोबाल ने बताया है कि, अगर तालिबानी अपहरणकर्ताओं को आईएसआई का समर्थन नहीं होता तो भारत ने इस संकट का समाधान कर लिया होता | उन्होंने कहा, ‘कंधार में विमान के पास बहुत से तालिबान आतंकी थे और उनके पास हथियार थे |’ जब आतंकियों से बातचीत करने वाली टीम मौके पर पहुंची तो उसे एक अन्य चीज के बारे में पता चला | यह चीज थी मामले में आईएसआई की दखलअंदाजी |

डोभाल ने कहा, ‘विमान के पास आईएसआई के दो लोग खड़े थे | जल्द ही कई और वहां आ गए | उनमें से एक लेफ्टिनेंट कर्नल और दूसरा मेजर था | उन्होंने पाकिस्तान में काम करते हुए कई साल बिताए थे। चीजें तब और खराब हो गईं जब भारतीय अधिकारियों को मालूम हुआ कि अपहरणकर्ता सीधे आईएसआई अधिकारियों से बात कर रहे थे | वहां पर जो कुछ भी हो रहा था, उसके बारे में हमें जानकारी मिल रही थी | अगर इन लोगों को आईएसआई की तरफ से खुला समर्थन नहीं मिल रहा होता तो हमने बंधक संकट को खत्म कर दिया होता |’

डोभाल ने किताब में लिखा, ‘हमने अपहरणकर्ताओं पर जो भी दबाव बनाया था, आईएसआई ने उसे खत्म कर दिया |’ बता दें कि यह बंधक संकट तब खत्म हुआ था जब भारत ने तीन आतंकवादियों मसूद अजहर, अहमद उमर सईद शेख और मुस्ताक जरगर को रिहा किया था | डोभाल ने इन तीनों को आईएसआई समर्थित आतंकवादी करार दिया |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here