20 उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण के साथ इसरो ने रचा इतिहास, अन्तरिक्ष क्षेत्र में अद्वितीय सफलता |

0
2033

isro

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान केंद्र (ISRO) ने बुद्धवार सुबह 9:26 पर एक ही राकेट से एक साथ 20 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण करके अन्तरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में एक नया इतिहास रच दिया | आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अन्तरिक्ष अनुसंधान केंद्र से हुए इस ऐताहिसिक प्रक्षेपण के बाद भारत विश्व का तीसरा ऐसा देश है जो ऐसा कर पाया है, किन्तु यदि आर्थिक रूप से देखें तो भारत का यह प्रक्षेपण सबसे अधिक महत्त्व रखता है |

इसे भी पढ़ें – अंतरिक्ष वेधशाला स्थापित करने वाला पहला विकासशील देश बना ‘भारत’

भारत दुनिया में सबसे कम लागत में प्रक्षेपण करने के कारण उपग्रह प्रक्षेपण के क्षेत्र में दुनिया की पहली पसंद बन गया, अमेरिका और रूस जैसे अत्याधुनिक तकनीकि वाले देश भी इस क्षेत्र में भारत का रुख कर रहे हैं |

इसरो ने इस प्रक्षेपण में PSLV C-34 का प्रयोग राकेट का प्रयोग किया है, इस अभियान में भारत के तीन और 17 विदेशी उपग्रहों को प्रक्षेपित किया गया है, PSLV C-34 द्वारा भेजे गए अन्य 17 उपग्रह व्यावसायिक हैं जिनसे कि इसरो को आर्थिक फायदा होगा |

भेजे गए 17 उपग्रहों में से 13 अमेरिका के हैं, जबकि अन्य चार इंडोनेशिया कनाडा और जर्मनी के हैं | भारत की यह सफलता उपग्रह प्रक्षेपण के क्षेत्र में अद्वितीय उपलब्धि है आज सारा विश्व इस क्षेत्र में भारत की ओर रुख कर रहा है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here