पशुपालन को लाभकारी बनाये बगैर गांव का विकाश संभव नहीं

0
93


वारिसनगर(समस्तीपुर ब्यूरो)
– जब तक पशुपालन को लाभकारी नहीं बनाया जाता तब तक गांव का विकाश संभव नहीं होगा| उक्त बातें पशुपालक संघ के जिला अध्यक्ष पशुप्रेमी महेंद्र प्रधान ने सोमवार को प्रखंड मुख्यालय पर पशुपालक किसान सेवा संघ द्वारा आयोजित एक दिवसीय उपवास सह धरना कार्यक्रम में कही|
उन्होंने कहा कि आजतक किसी विधायक या सांसद ने किसी सदन में दुग्ध का लागत मूल्य पता करने का सवाल नहीं उठाया| वहीं संघ के संस्थापक अध्यक्ष वैधनाथ चौधरी ने अपने सम्बोधन में कहा कि हम पशुपालक जब तक संगठित नहीं होंगे तब तक दुग्ध का लाभकारी मूल्य तय नहीं होगा| पशुपालन विभाग के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक डॉ. उमेश कान्त चौधरी ने कहा कि पशु पालन के प्रवधान को तार्किक बनाते हुए उसके लागत मूल्य को न्यूनतम किया जाय एवं राष्ट्रीय दुग्ध शोध संस्थान करनाल की तरह पूसा कृषि विश्वविद्यालय में भी संस्थान की आवश्यकता है|
साथ हीं डॉ. भूपेंद्र ठाकुर ने कही कि समस्तीपुर जिला दुग्ध उत्पादन में अव्वल है इसलिये सरकार को चाहिये की वो दुग्ध उत्पादन पर प्रति लीटर प्रोत्साहन राशि उपलब्ध कराये| उक्त कार्यक्रम की अध्यक्षता शिवकुमार गुप्ता व संचालन डॉ. भूपेंद्र प्रसाद यादव ने की| धरने को स्थानीय मुखिया राजेश कुमार सहनी, निरंजन ठाकुर, विजय दास, हम पार्टी के जिलाध्यक्ष रामाश्रय ठाकुर, अर्जुन चौधरी, विवेकानंद ठाकुर, शिवशंकर चौधरी, शैल देवी, पूजा देवी, प्रेमलता देवी आदि ने संबोधित किया|

रिपोर्ट- रजनिश कुमार
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY