जामेअतुल कादरिया अजीजूल उलूम मदरसा ने मनाया पहली वर्षगांठ

0
109

लोयाबाद/झारखंड (ब्यूरो)- मैं नहीं कहता कुरआन कहता जिसकी पहली आयत नाजिल हुई वह रोजा नमाज जकात नहीं बल्कि कुरआन का पहला शब्द ‘इकरा” आया। यानी पढो। पढकर इस्लाम को समझोगे तो कामयाब हो जाओगे और बिना पढ़े समझे तो गुमराह हो जाओगे। और ये तालिम कहां मिलती है मदरसों में।

यह बातें सोमवार की रात में अल जामेअतुल कादरिया अजीजूल उलूम मदरसा की पहली वर्षगांठ के मौके पर मदरसा के नाजिम आला मौलाना नसीम राही ने तकरीर करते हुए कही। कार्यक्रम की शुरुआत हाफिज व कारी मो महताब रजा ने कुरआन शरीफ की सुरा की तिलावत कर की। इससे पहले मदरसा कमेटी के पदाधिकारियों और सदस्यों ने उल्लेमाओं के साथ साथ मुस्लिम कमेटी इलाका लोयाबाद के अध्यक्ष मो जहीर अंसारी व महामंत्री मो असलम मंसूरी को माला पहनाकर इस्तेकबाल किया । इजतेमाई दुआ में मदरसे की कामयाबी के साथ साथ देश के अमन व खुशहाली की दुआएं मांगी गई।

मौके पर हाजी अब्दुल कुद्दुस आसवी हाजी अब्दुल रउफ साहब व जदयू के जिला उपाध्यक्ष राजकुमार महतो मौजूद थे। उल्लेमाओं ने तकरीर करते हुए कहा कि शिक्षा हमारी मजहब में फर्ज करार दिया गया है। अपने बच्चों को भूखे रहकर भी तालिम दो ताकि वह आखरत में कामयाब हो सके । उल्लेमाओं ने कहा कि 16 पंचायतों की आवामों ने मिलकर एक साल पहले इस मदरसे को कायम किया। आवामों की सहयोग से चल रहा यह मदरसा धीरे धीरे अपनी मंजिल को तय करते हुए आगे बढ़ रहा है।

आज इस मदरसे में 40 गरीब व यतीम बच्चों को न सिर्फ नि शुल्क शिक्षा दी जा रही है बल्कि उसके रहने और खाने पीने का भी मुकम्मल इंतजाम किया गया है। इसके लिए सोलह पंचायतों के तमाम आवामों की जितनी प्रशंसा की जाय कम है। मुस्लिम कमेटी के अध्यक्ष मो जहीर अंसारी और महामंत्री मो असलम मंसूरी के साथ कमेटी के तमाम ओहदेदरान और मेंबरानों की कड़ी मेहनतों का फल है कि यह दीनी दरसगाह एक साल में इस मुकाम पर पहुंचा है। जलसा की सदारत हाजी गुलाम रसूल साहब व संचालन मो शमशुल होदा साहब ने की।

मौलाना इश्हाक आलम नूरी मौलाना इरफान उल कादरी हाफिज शरफुद्दिन मौलाना अबुल कलाम खान मौलाना वाहिद हाफिज शाहीद हाफिज व कारी गुलाम नबी आदि ने सबक अमोज तकरीरें की और नाते रसूल सुनाकर खूब दाद लूटी। कार्यक्रम को सफल बनाने में कमेटी के अध्यक्ष नईमउद्दीन अयूबी सचिव खुर्शीद अकरम मो गुलाम जिलानी मो निसार मंसूरी फिरोज अहमद मो मोइनुद्दीन मो आजाद अंसारी मो जमाल अंसारी करीम अंसारी अब्दुल रउफ अंसारी मो जमाल खान के अलावे नौवजवानों ने सराहनीय योगदान दिया।

रिपोर्ट- पिंटू रावत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here