“जब मन हो तब आइए, स्कूल आखिर जो सरकारी जो हैं”

0
75
प्रतीकात्मक

रायबरेली (ब्यूरो)- गुरु को भगवान का दर्ज़ा दिया जाता है, जिनसे बच्चो का भविष्य जुड़ा होता हैं लेकिन जब वही गुरु छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने लगे तो आप क्या कहेंगे? मामला रायबरेली जिले के शिवगढ़ ब्लाक के नारायण पुर प्राथमिक विद्यालय का है, जहाँ स्कूल का समय 8 बजे एक बजे तक है पर यहाँ के शिक्षक कभी 9 तो कभी 10 बजे स्कूल आते है। आये भी क्यो न क्युकि वे भी अब इतना समझदार हो चुके हैं कि बहुत ज्यादा जाँच ही तो करेंगे फिर सेटिंग करके मामला सफेद कागज की तरह साफ हो जाएगा|

भाई नौकरी भी सरकारी है फिर कैसे समय से विद्यालय पहुच जाये। वहाँ पढ़ने वाले बच्चे खुद ही आपस मे एक दूसरे को पढ़ाते है क्युकि उन्हें तो पता है कि उनके गुरु जी का कोई आने का टाइम ही नही और जब आये तो पता चला कुछ ही देर में छुट्टी का समय हो जाता हैं| फिलहाल ये एक स्कूल नही जहाँ ऐसी घटना सामने आई कई ऐसे विद्यालय हैं, जहाँ शिक्षक कभी समय से विद्यालय नही पहुचते कुक्की उन्हें ये चीज पता है कि उनके यहा कोई अधिकारी जाँच करने नही आ सकता फिलहाल जो तस्वीर्रे सामने आई उससे यही लगता हैं कि इन बच्चो से पढ़ाई के नाम पे मज़ाक कर रहे है
फिलहाल जब इस घटना के पूरे मामले में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से बात गई तो उन्होंने जांच कर कार्यवाही के आदेश भी दे दिये है।

रिपोर्ट- अनुज मौर्य 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY