जघन्य अपराधों को देखते हुए कोर्ट ठुकराई जमानत याचिका, भेजा जेल

0
257

 

सुलतानपुर (ब्यूरो)- बहुचर्चित कोईरीपुर हत्याकांड व दुष्कर्म के एक अन्य मामले में सगे भाई समेत तीन आरोपियों की तरफ से सम्बन्धित अदालतों में जमानत अर्जी पेश की गई। जिस पर सुनवाई के पश्चात सत्र न्यायाधीश की अदालतों ने जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

पहला मामला- चांदा थानाक्षेत्र के कोईरीपुर कस्बे का है। जहां पर बीते 31 मई को दिनदहाड़े करीब आधा दर्जन हथियारो से लैस बदमाश, मदन बरनवाल के घर में घुस आये और लाखों की फिरौती की मांग न होने पर डकैती डाल दी। इस दौरान हमलावरों ने व्यवसायी मदन के पुत्र श्रवण व बब्बन की गोली मारकर हत्या कर दी। जबकि अन्य परिवारीजन भी हमले में घायल हो गए। इसी मामले में आरोपी जज्जे तिवारी व कुसू कुमार समेत अन्य का नाम प्रकाश में आया।

आरोपी कुसू कुमार की तरफ से स्पेशल जज एससी-एसटी एक्ट जमाल मसूद अब्बासी की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गई। जिस पर सुनवाई के दौरान शासकीय अधिवक्ता अब्दुल मोमिन ने बचाव पक्ष के तथ्यों को निराधार बताते हुए जमानत पर विरोध जताया। तत्पश्चात स्पेशल जज एससी एसटी ने आरोपी की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

दूसरा मामला- बल्दीराय थानाक्षेत्र का है। जहां करीब डेढ़ वर्ष पूर्व युवती को बहला-फुसलाकर भगा ले जाने एवं उसके साथ दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने आरोपी शांती देवी आदि को मुल्जिम बनाया था। विचारण के दौरान एफटीसी (स्पेशल महिला कोर्ट) ने आरोपी सगे भाई प्रकाश व हरिकेश निवासीगण हैहनाकला थाना बल्दीराय को भी बतौर मुल्जिम तलब किया। इसी क्रम में दोनों आरोपियों की तरफ से प्रस्तुत जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान शासकीय अधिवक्ता ने बचाव पक्ष के तथ्यों पर विरोध जताया। तत्पश्चात फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट न्यायाधीश अनिल कुमार यादव ने दोनों भाईयों की जमानत खारिज कर दी।
रिपोर्ट- दीपक मिश्र
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY