भदोही का जांबाज़ जवान रायपुर में हुए नक्सली हमले में शहीद

0
104

भदोही(ब्यूरो)- उत्तर प्रदेश के भदोही जिले से नक्सल प्रभावित छत्तीसगढ़ में एक जवान के शहीद होने की ख़बर है । रविवार को रायपुर जिले में नक्सली मुठभेंड में मदर्स-डे पर छत्तीसगढ़ से आयी इस बुरी खबर ने मां और पूरे परिवार को गहरी टीस दे गई। एक भारत मां, दूसरी जन्म देने वाली मां ने अपने एक जांबाज लाल को खो दिया। परिजनों को यह खबर लगते ही पूरे बैराखास गांव में कोहराम मच गया। पुलिस अधीक्षक भदोही सचिंद्र पटेल ने बताया कि औपचारिकताएं पूरी करने के बाद शहीद जवान का शव हेलीकाप्टर से पुलिस लाइन पहुंचने की संभावना है। रायपुर से मिली जानकारी के अनुसार अभी मेडिकल संबंधी औपचारिकताएं की जा चुकी हैं। उधर पिता ने कहा है कि देश के लिए बेटे की शहादत हमारे लिए गर्व की बात है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया पुलिस लाइन में जवान को गार्ड आफ आनर दिया जाएगा। इसके बाद जवान का शव अंतिम दर्शन और संस्कार के लिए जिले के बैराखास गांव ले जाएगा। परिजनों के अंतिम दर्शन के बाद जवान का पूरे सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। घटना के बाद मां और पिता का बुरा हाल है। बेटे की शहादत से पूरे परिवार का सपना टूट गया है। हाल के सालों में किसी जवान के शहीद होने की यह पहली घटना है जिससे पूरे जिले में शोक की लहर दौड़ गई है। अभी एक सप्ताह पूर्व घर में आयोजित शादी समारोह में सुलभ आए थे। रात में भी परिजनों से बातचीत हुई है। वह तीन भाई और दो बहन में से एक थे।

जिले के ज्ञानपुर कोतवाली के बैराखास निवासी अशोक कुमार उपाध्याय का बेटा सुलभ उपाध्याय 25 छत्तीसगढ़ के रायपुर में एसटीएम में सिपाही के पद पर तैनात रहे। सुकमा हमले के बाद नक्सलियों के खिलाफ कांबिंग तेज कर दी गई है। रायुपर के नक्सल प्रभावित इलाके में यह अभियान पिछले कई दिनों से चल रहा था। रायपुर में रात में जवानों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेंड में सलभ उपाध्याय शहीद हो गए। एसटीएफ के इस जवान ने अंतिम सांस ली। बेटे के शहादत की खबर गांव पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया। पिता बेटे की मौत की खबर पाते ही पिता बेहोश हो गए। उधर मदर्स-डे पर अपने बेटे को खो कर मां का बुरा हाल दिखा। बहन भाई से मोबाइल पर हुई अंतिम बात को याद कर बिलख रही थी। परिजनों के मुताबित कल भी घरवालों से सलभ की बात हुई है। जवान का पार्थिव शरीर वाराणसी लाया जाएगा, वहां सीधे जिला मुख्यालय ज्ञानपुर पुलिस लाइन लाएगा। यहां गार्ड आफ आनकर देने के बाद पैतृक गांव बैराखास जाएगा।

रिपोर्ट- राजमणि पाण्डेय 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here