दुनिया की सबसे तेज क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस को लेकर सुखोई ने उड़ान भर रच दिया इतिहास

0
1384

SU 30 AIRCRAFT FLYING
दिल्ली- भारतीय वायु सेना ने वह कर दिखाया जिसे दुनिया भर के वैज्ञानिक असंभव करार दे चुके थे | बता दें कि हाल ही भारतीय वायुसेना के अग्रिम मोर्चे पर तैनात लड़ाकू विमान सुखोई एमकेआई-30 ने दुनिया की सबसे घातक और तेज मिसाइल सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल को लेकर जैसे ही आसमान में उड़ान भरी पूरी दुनिया के वैज्ञानिक बस उसे देखते ही रह गए और देखते ही देखते भारतीय वैज्ञानिकों और वायुसेना ने मिलकर एक नया इतिहास रच डाला |

दुनिया की सबसे तेज क्रूज मिसाइल को लेकर सुखोई -30 ने भरी उड़ान –
दरअसल आपको बता दें कि 25 जून 2016 को भारत की हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड और रूस की सुखोई के द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किये गए विमान सुखोई एमकेआई-30 पर परिक्षण के तौर पर दुनिया की सबसे घातक और तेज क्रूज मिसाइल को लगाया गया था | दुनिया भर के वैज्ञानिकों का दावा था कि इतनी अधिक वजन की सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों को लेकर कोई भी विमान हवा में उड़ नहीं सकता है लेकिन हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड के वैज्ञानिकों ने इसे एक चैलेन्ज की तरह से लिया और सुखोई एमकेआई-30 में जरूरी बदलाव कर डाले जिसके बाद उन्होंने सुखोई-30 को कुछ इस तरह से विकसित कर दिया जो बेहद आसानी के साथ ब्रह्मोस जैसे 2500 वजनी मिसाइल को लेकर बेहद आसानी से हवा में परवाज़ कर सके | और वैज्ञानिकों की मेहनत रंग लायी सुखोई ने बीते 25 जून 2016 को ब्रह्मोस को लेकर हवा में उड़ान भरी और न केवल उड़ान भरी 45 मिनट तक हवा में रहा और इस दौरान सुखोई ने जबरदस्त कलाबाजी भी की |

भारतीय वायु सेना ने रच दिया इतिहास –
सुखोई-एमकेआई-30 ने जैसे ही ब्रह्मोस को लेकर हवा में उड़ान भरी उसी के साथ भारतीय वायु सेना ने दुनिया भर की वायु सेना के सामने एक मिशाल कायम करने के साथ-साथ इतिहास रच दिया | भारतीय वायु सेना अब दुनिया की पहली वायु सेना है जिसके पास हवा से जमीन पर मार करने वाली और हवा से हवा में मार करने वाली दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है | भारत के पास अब जल, थल और आकाश कही से भी परमाणु हमला करने में सक्षम राष्ट्र बन गया है | यह ताकत दुनिया के कुछ चुनिंदा मुल्कों के पास ही है |

सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल के साथ उड़ान भरने वाली दुनिया की पहली वायुसेना है भारतीय वायु सेना -सुधीर मिश्र मुख्य कार्यकारी अधिकारी ब्रह्मोस एयरोस्पेस –
ब्रह्मोस एयरोस्पेस के मुख्यकार्यकारी अधिकारी सुधीर मिश्र ने कहा है कि 2500 किलोग्राम की भारी भरकम सुपरसोनिक मिसाइल को लेकर उड़ान भरने वाली दुनिया की पहली एयरफोर्स बन गयी है भारतीय वायुसेना | उन्होंने यह भी कहा है कि और भारत पहला ऐसा देश बन गया है जिसकी वायु सेना के पास सुपरसोनिक मिसाइल को हवा से दागने की तकनीक मोजूद है |

मेक इन इंडिया का गजब का उदहारण है यह – हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स महाप्रबंधक टी. सुवर्ण राजू
हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड के महाप्रबंधक टी. सुवर्ण राजू ने इस बड़ी सफलता पर बधाई देते हुए कहा है कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा चलाये गए मेक इन इंडिया कार्यक्रम का एक बेहद खूबसूरत उदहारण है | उन्होंने कहा है कि इससे एक बात साबित हो जाती है कि देश की सभी एजेंसिया अगर एक साथ मिलकर किसी काम को अंजाम देने के लिए लग जाय तो कोई भी टास्क कभी बड़ा नहीं हो सकता है, हम मिलकर उसे बेहद आसानी से और बहुत जल्दी पूरा कर सकते है |

टी.सुवर्ण राजू ने यह भी कहा है कि आने वाले समय में हम ऐसे और भी कई परीक्षण करेंगे जिनमें हवा से जमीन पर मार करना और हवा से हवा में मार करना आदि शामिल होंगे | बाद में हम सुखोई को इन्ही विमानों की तर्ज में बदलाव करते हुए ब्रह्मोस से लैस कर देंगे जिसके बाद भारतीय वायु सेना कई गुना और घातक हो जाएगी | टी. सुवर्ण राजू ने बताया है कि आने वाले समय में हम भारतीय वायुसेना के अग्रिम मोर्चे पर तैनात सुखोई एमकेआई-30 के 40 विमानों पर ब्रह्मोस को तैनात करेंगे |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here