पत्रकार ने पेश की मानवता की मिसाल

0
111
प्रतीकात्मक फोटो
बबुरी/चंदौली (ब्यूरो)- स्थानीय कस्बे में एक उत्पाती बंदर को 11 हजार की करंट लग गया। करंट लगते ही बंदर पास के ही नाले में गिरकर छटपटाने लगा। देखते ही देखते लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। लोग तमाशाबीन बने रहे। परंतु किसी व्यक्ति ने उस घायल बंदर को नाले से निकालने की हिम्मत नहीं उठायी। एक दैनिक अखबार के पत्रकार कालिदास त्रिपाठी और मुकेश कुमार जायसवाल कस्बे में किसी कार्य से जा रहे थे कि लोगों को भीड़ इकट्ठा हुए देख उन्होंने अपनी गाड़ी रोक दी ।
मौके पर जाकर देखा तो नाले में एक बड़ा बंदर करंट लगने के कारण छटपटा (तड़प) रहा था । उस घायल बंदर को देख उन्हें रहा नही गया और उन्होंने तुरंत पानी भरे गंदे नाले में उतर कर किसी तरह बंदर को नाले से बाहर निकाला और अपने निजी खर्चे से दवा और सुई लगाकर उस घायल बंदर को राहत पहुंचाई ।
लोगो ने पत्रकार की इस मानवता को देख दंग रह गए। लोगों ने उनकी इस मानवता की काफी प्रशंसा की और उनके इस किए गए कार्य की खूब वाहवाही की ।
रिपोर्ट- रोहित वर्मा

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here