सही बात कहने में पत्रकारों को दबना नहीं चाहिए – न्यायमूर्ति रवीन्द्र

0
180

इलाहाबाद- किसी भी स्थिति में सही बात कहने में पत्रकारों को दबाना नहीं चाहिए और हमेशा सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए, पत्रकारिता एक बहुत ही संघर्षशील क्षेत्र है।

उक्त बातें न्यायमूर्ति रवीन्द्र सिंह (चेयरमैन, राज्य विधि आयोग, उ.प्र) ने माघ मेला परेड ग्राउण्ड के खादी भण्डार के सांस्कृतिक पण्डाल में भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के 17वें वार्षिक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने आगे कहा कि आप लोकतंत्र के चौथे स्तंभ हैं, आप बड़े से बड़े आदमी को हिला सकते हैं। कहा कि आपने जो क्षेत्र चुना है, वह बहुत ही संघर्षशील क्षेत्र है। सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित न्यायमूर्ति रवीन्द्र सिंह ने पत्रकारों को समय के साथ तथा सत्य के मार्ग पर चलने की बात कही।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जुगुल किशोर तिवारी आईपीएस (पुलिस अधीक्षक (भवन), पुलिस मुख्यालय उ.प्र इलाहाबाद ने कहा कि पद महत्वपूर्ण नहीं होता, बल्कि व्यक्ति की लोकप्रियता महत्वपूर्ण होती है। कहा कि यश हमें स्वयं प्राप्त करना है। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित राममूर्ति मिश्र उपनिदेशक मण्डी परिषद् ने कहा कि पत्रकारिता के रूप में कार्य करना बड़ा कठिन कार्य हो गया है। अगर आप किसी एक पक्ष में खबर लिखते हैं तो निश्चित तौर पर एक तबका आपसे नाराज होता है।

इस अवसर पर पत्रकार महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुनेश्वर मिश्र ने महासंघ को पत्रकार कल्याण की जिला कमेटी में रखने की मांग की। मंच का संचालन संस्थापक डा. भगवान प्रसाद उपाध्याय ने किया। इस मौके पर बृजेश गुप्ता, प्रो. जगदीश प्रसाद यादव, शांती स्वरूप तिवारी, महासंघ प्रदेश अध्यक्ष मथुरा प्रसाद धूरिया, मुरलीधर मिश्र, सरदार दिलावर सिंह, जगदम्बा प्रसाद, विवेक कुमार त्रिपाठी, अशोक कुमार कुणाल, हीरामणि त्रिपाठी, डा. विमलेश, राम नारायण पाठक आदि पत्रकारों ने अपने विचार रखे और वरिष्ठ पत्रकार स्व. आर.डी खरे एवं वरिष्ठ पत्रकार स्व. बेचन सिंह को याद करते हुए दो मिनट का मौन रख कर श्रद्धांजलि दी गई।

संगम तट पर हुए पत्रकार सम्मेलन में दिल्ली, असम, उत्तराखंड, बिहार, बंगाल, मध्य प्रदेश राज्यों सहित प्रदेश के देवरिया, कौशाम्बी, प्रतापगढ़, जौनपुर, सुल्तानपुर आदि जिलों के पत्रकार मौजूद रहे। कार्यक्रम में मुख्य रूप से शिवशरण त्रिपाठी, राम नारायण, ऋषिकेश राय, सच्चिदानंद, विश्वामिश्र, आलोक त्रिपाठी, कुलदीप शुक्ला, मंगला प्रसाद तिवारी, कमल नारायण शुक्ला, अरविन्द मालवीय, प्रभाशंकर ओझा, कमलेश मिश्र, धर्मेन्द्र कुमार श्रीवास्तव, विद्याकांत मिश्र, प्रदीप गुप्ता, मंजीत सिंह, आदित्य विक्रम सिंह, इन्द्रेश कुमार मिश्र, विमलेश मिश्र, मोहित पाण्डेय समेत जिले के कई पत्रकार भी शामिल रहे।
रिपोर्ट- डॉ. आर.आर. पाण्डेय
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY