“प्रमुख सचिव मेरा दोस्त !…चुटकी में लगवा दूंगा तेरी नौकरी”, जंगल सफारी में फारेस्ट गार्ड बनने का फर्जीवाड़ा उजागर

0
62

रायपुर(छत्तीसगढ़ राज्य ब्यूरो)-  विभाग का प्रमुख सचिव मेरा दोस्त है!…तुम्हारी तो नौकरी पक्की। जंगल सफारी में नौकरी लगाने का फर्जी खेल इन्ही दावों के साथ खेला जा रहा था। जंगल सफारी में फारेस्ट गार्ड की नौकरी लगाने के नाम पर एक बड़े गोरखधंधे का खुलासा हुआ है। अब तक बेरोजगारों से लाखों रुपये ठग लिये गये हैं और ठगी करने वाल मुख्य सरगना दीपेश सिंह ठाकुर हर बार यही झांसा देता था कि वो वन विभाग के प्रमुक सचिव आरपी मंडल के साथ पढ़ा है और वो मेरा दोस्त है। इससे पहले भी कईयों की नौकरी लगा चुका है।

दरअसल जंगल सफारी में फर्जी नौकरी दिलाने का खेल महीनों से चल रहा था…इस मामले में नयी राजधानी में रहने वाले एक युवक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। लार्ड सागर नाम के आरोपी के मुताबिक राजधानी और आसपास के जिलों से करीब 20 युवकों से अभी तक 1 करोड़ से ज्यादा की रकम ठगी की गयी है। इस दौरान बलौदाबाजार के एक युवक को नियुक्ति पत्र भी दिया गया है| जिसमें वन मंत्री महेश गागड़ा, प्रमुख सचिव आरपी मंडल के फर्जी हस्ताक्षर थे, लेकिन पीसीसीएफ आरके टमटा के हस्ताक्षर नहीं|

रिपोर्ट- हरदीप छाबड़ा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here