कैलाश सत्यार्थी, हॉवर्ड के “ह्यूमैनिटेरियन” पुरस्कार से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय

0
275

बाल अधिकारों और बाल विकास के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी पहले ऐसे भारतीय बन गए हैं जिन्हें हॉवर्ड युनिवर्सिटी के प्रतिष्ठित पुरस्कार “ह्यूमैनिटेरियन” से सम्मानित किया गया है |

हॉवर्ड द्वारा दिया जाने वाला यह पुरस्कार उन लोगों को दिया जाता है जिन्होंने लोगों के जीवन की गुणवत्ता को सुधारने की दिशा में विशेष काम किया हो और समाज को उन कार्यों के लिए प्रेरित किया हो |

यूनिवर्सिटी की तरफ से कहा गया कि बाल दासता को समाप्त करने और बाल अधिकार के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान देने के लिए हॉवर्ड श्री कैलाश सत्यार्थी को ‘ह्यूमैनिटेरियन ऑफ़ द ईयर’ के सम्मान से सम्मानित कर रही है |

हाल ही में श्री कैलाश ने संयुक्त राष्ट्र के सतत लक्ष्यों में बाल संरक्षण और बाल कल्याण जैसे प्रावधानों को शामिल कराने में सफलता प्राप्त की है, जिनका लक्ष्य विश्व भर में बाल मजदूरी और बाल दासता को समाप्त करना है |

पुरस्कार स्वीकार करते वक़्त श्री कैलाश ने कहा “मै उन लाखों बच्चों की ओर से इस पुरूस्कार को स्वीकार करता हूँ जिनके अधिकारों की रक्षा के लिए हम प्रयासरत हैं, आओ हम सब मिलकर विश्व से बाल मजदूरी को समाप्त करने का प्रण लें |”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here