कंदर्प ने सबसे कम उम्र में एवरेस्ट बेस कैंप पर पहुँचने का बनाया रिकॉर्ड

0
574

http://themarkdesign.com/library/kak-izbavitsya-ot-boli-v-mishtsah.html как избавиться от боли в мышцах evrest

http://freeedom.org/library/prikaz-minstroya-75-pr-ot-0802-2017.html приказ минстроя 75 пр от 08.02 2017 भारत के पांच वर्षीय कंदर्प शर्मा और आठ वर्षीय ऋत्विका विश्‍व की सबसे ऊंची चोटी के बेस कैंप पर पहुंचने वाले सबसे कम उम्र के पर्वतारोही बन गए हैं। दोनों सगे भाई-बहन हैं। दोनों सोमवार को अपने माता-पिता के साथ 5,380 मीटर की ऊंचाई पर स्थित काला पत्थर बेस कैंप पर पहुंचे। वहां पहुंचने के बाद दोनों ने ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए और तिरंगा फहराया |

дни недели на английском таблица ऋत्विका ने पत्रकारों को बताया कि यहां तक की उनकी यात्रा काफी रोमांच भरा रहा। हमने यहां से स्नो फॉलिंग और सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट को देखा। लहराया। कंदर्प पहली क्लास के और रित्विका चौथी क्लास की स्टूडेंट हैं। वे ग्वालियर, मध्यप्रदेश के लिटल एंजल हाई स्कूल में पढ़ते हैं। बच्चों के पिता भूपेंद्र शर्मा 20 साल से एडवेंचर कोच हैं। उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह बड़ी चुनौती थी, लेकिन हमने बेहिचक इसे स्वीकार कर लिया।

интернет маркетинг фирмы कंदर्प और ऋत्विका सबसे कम उम्र में यहां तक पहुंचने वालों की लिस्ट में शामिल हो गए। 5 साल के कंद्रप शर्मा और 8 साल की रित्विका सोमवार को नॉर्थईस्ट नेपाल में 5,380 मीटर ऊंचाई पर सफलतापूर्वक पहुंची। इन्होंने इस बेस कैंप पर पहुंचने वाले हर्षित का रेकॉर्ड तोड़ा। 2014 में जब हर्षित यहां पहुंचा था, उस समय उसकी उम्र 5 वर्ष 11 महीने थी।