अटल बिहारी वाजपेई के समय में कश्मीर मसला हल होने की कगार पर था : मोहन भागवत

0
1194

bhagwat_story

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने आगरा में एक कार्यक्रम के दौरान बयान में कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेई के शासनकाल में कश्मीर मुद्दे का हल लगभग निकल आया था, लेकिन बाद की सरकारों ने उस प्रयास को आगे नहीं बढ़ाया |

भागवत ने रविवार को आगरा में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कश्मीर के लोग पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहते हमें उनके अन्दर राष्ट्रीयता की भावना को और अधिक प्रबल करने के लिए प्रयास करने होंगे, इस मौके पर शहर के करीब 200 युवा दम्पतियों को सम्बोधिय्त करते हुए उन्होंने कश्मीर, गोरक्षा, मिशनरी स्कूल, समान नागरिक संहिता तथा कई अन्य मुद्दों पर अपने विचार रखे |

उन्होंने कहा कि यह बिलकुल सत्य है कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा हो रही है और ऐसा नहीं होना चाहिए गोरक्षा का काम पूरी तरह से कानून के दायरे में रहकर होना चाहिए, भारत में पाश्चात्य सभ्यता के बढ़ते प्रभाव पर उन्होंने कहा कि देश के युवाओं के बीच पाश्चात्य सभ्यता का असर बढ़ रहा है, हमें अपने पूर्वजों द्वारा सिखाये गए संस्कारों और मूल्यों को अपने युवाओं सिखाना होगा, और उन्हीं के आधार पर आगे बढ़ना होगा |

इस दौरान शिवाजी को याद करते हुए उन्होंने कहा कि मराठा योद्धा अपने मूल्यों के लिए खड़े रहे और अपने परिवार से प्रेरणा ली उन्होंने कहा समय के साथ सभ्यताएं बदलती हैं संस्कृति नहीं, बच्चों में संस्कार और मूल्यों को रोपित करना हर परिवार का दायित्व है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here