हाईकोर्ट के आदेश पर 24 तक रोकी गईं केजीबी की परीक्षाएं

0
28

हरदोई (ब्यूरो) – कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों में शिक्षण कार्य करने वाले सभी संविदाकर्मियों के लिए होने वाली परीक्षाओं पर हाईकोर्ट ने रोंक लगा दी है। हालांकि प्रशासन ने पहली बार कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में परीक्षा कराने का निर्णय लिया था। जिसे लेकर शिक्षक परेशान थे। इस परीक्षा को नियमविरुद्ध बताया जा रहा था, जिसे लेकर हाईकोर्ट ने प्रशासन के विरोध में आदेश दिया है और परीक्षा को 24 अप्रैल तक रोकने का आदेश दिया है।
दरअसल जिले में 20 कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय स्थापित हैं जिनमें सैकड़ों टीचर्स व अन्य का स्टाफ है। विगत 010 वर्षों से इन विद्यालयों में शिक्षक, शिक्षिकाओं का स्वतः नवीनीकरण होता रहा है। किंतु इस बार प्रशासन के आदेश पर विभाग ने सभी संविदाकर्मियों की परीक्षा कराने का निर्णय लिया। परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले ही कर्मी का नवीनीकरण किया जाना था।

किंतु इस परीक्षा का पाठ्यक्रम क्या होगा? इसकी कोई तैयारी प्रशासन ने नही की। ऐसे में संविदाकर्मी अजमंजस में हैं कि वह किस पाठ्यक्रम की तैयारी करें जिसका सवाल परीक्षा में पूछा जाएगा। ‘द टेलीकास्ट’ वही दूसरा सवाल ये भी है कि 24 घण्टे की ड्यूटी करने वाले टीचर्स किस अवधि में परीक्षा की तैयारी करेंगे। बिना इसकी परवाह किये प्रशासन ने परीक्षा कराने का निर्णय ले लिया। इस निर्णय के खिलाफ संविदाकर्मियों ने उच्च न्यायालय का रुख किया जहां उन्हें फिलहाल राहत मिली है। जज ने सरकारी वकील अजय यादव से कहा है कि कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की परीक्षा अब कोर्ट के अधीन हैं। इसलिए ये परीक्षाएं न कराई जाएं यदि कराई गयीं तो निरस्त कर दी जा सकती है। 24 अप्रैल को उच्च न्यायालय इस सम्बंध में अपना फैसला सुनाएगा।

रिपोर्ट- हरिश्याम बाजपेयी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here