खाकी फिर हुई एक बार दागदार

0
97


देहरादून (ब्यूरो)- देहरादून कोई कसाई भी किसी काबू में न आने वाले जानवर धुनाई इतनी बेरहमी से नही करता होगा जितनी खौफनाक तरीके से उत्तराखंड मित्र पुलिस ने अपनी ही बिरादरी के जवान को लठियाया और चोटिल किया।

देहरादून के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को सौंपी गई तहरीर में मित्र पुलिस और उसकी चीता टुकड़ी की बर्बरता के एक-एक पहलू जिक्र प्रार्थी ने किया है। तहरीर मे कहा गया है कि जिस कांस्टेबल पर मित्र पुलिस और उसके चीतों ने गुंडई दिखाई है वो जवान भी एनएसजी ट्रेनिंग होल्डर है।

तहरीर में घटना के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा गया है कि किस तरह से मित्र पुलिस के चीता पार्किंग के मसले पर भड़क उठे और अपना आपा खो बैठते हुए कानून को हाथ में ले लिया।

कांस्टेबल के भाई ने तहरीर में पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उसके भाई को चीता पुलिस और उनके कुछ दूसरे साथियों ने जहां सड़क पर घेर कर पिटाई की वहीं थाना बसंत विहार में भी बेरहमी से मिलकर पीटा है जिससे उसे गंभीर चोटें आई हैं।

मित्र पुलिस की ज्यादती का शिकार बने कांस्टेबल के वकील भाई और एक सामाजिक संस्था ने सूबे के डीजीपी से इस गंभीर मामले को संज्ञान में लेकर निष्पक्ष जांच कर दोषियों को दंड देने की प्रार्थना की है।

बहरहाल बड़ा सवाल ये है कि जो मित्र पुलिस और चीता फोर्स अपने ही जवान को नहीं पहचान पाए और गुंडई पर उतरकर बेरहमी से पीट दी वे आम आदमी के साथ किस अंदाज में पेश आते होंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY