खेलने की उम्र में खाने की तलाश में देश के नौनिहाल

0
39

दुमका(ब्यूरो)- भारत जैसे अपार संभावनाओं वाले देश में जन्म लेने के साथ बच्चे भीख मांगने के क्षेत्र में संभावना तलाशने लगते हैं और यह स्थिति बासुकीनाथ धाम में भी है जहां बच्चे मंदिर के चौखट पर अपने बचपन को चढ़ा देते हैं| जिस उम्र में इन नौनिहालों को व्यक्तित्व विकास के साथ-साथ बचपन को सुनहले राजमार्ग के सफर पर ले जाना चाहिए था, वहां न जाकर मंदिर के चौखट पर आकर दम तोड़ देती है| समाज में सब कुछ होते हुए भी प्रशासन की मुस्तैदी दिखाई नहीं देती है आखिरकार यह बच्चे कब स्कूल जाएंगे सिस्टम कब तक सोई रहेगी भिक्षा मांगने वाले बच्चों के जीवन में कब सवेरा आएगा|

रिपोर्ट- धनंजय कुमार सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here