पीली ईंट से बन रहे खड़ंजे के विरोध में ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त

0
205


महराजगंज (रायबरेली ब्यूरो) : विकास खंड अमावां के बावन बुजुर्ग बल्ला में सेनुपर से पूरे सिंघई के लिए लगवाये जा रहे खड़ंजे में चौथे दर्जे की ईंट का प्रयोग किये जाने से ग्रामीणों में आक्रोश ब्याप्त है। ग्रामीणो द्वारा इसकी जाँच कर उचित कार्यवाही करवाने की माँग की गयी है। मामला सेनुपर पटवा की चक्की से पूरे सिंघई गांव तक लगवाये जा रहे खड़ंजे में पीले व घटिया किस्म की ईंटों के प्रयोग का बताया जा रहा है। लोगो का कहना है कि आजादी के बाद से अब जाकर लग रहे इस खड़ंजे में ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी द्वारा जमकर लूटने का काम किया जा रहा है । अब देखना है कि पीले ईट से बनी यह सड़क कितने दिन चल पायेगी ।

इस मामले में ग्राम विकास अधिकारी से जब बात की गई तो उन्होने कहा कि खडंजा तो एक सप्ताह पूर्व लग चुका है। लेकिन मजे की बात देखिये हमारे ग्राम विकास अधिकारी महोदय जी को यह नही पता कि खंडजा कब से चालू हुआ और कब खतम हुआ। अब बताइये कि ये अधिकारी अपने काम के प्रति कितने ईमानदार हैं इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब खड़ंजा लग रहा है तो ग्राम विकास अधिकारी जी बता रहे है कि खंडजा तो एक सप्ताह पूर्व ही लग चुका है जब कि खंडजे का निर्माण अभी भी चल रहा है। तो ईंट कौन सी लग रही है यह इन्हे कैसे पता चलेगा। वहीं जानकारो का मानना है कि ग्राम प्रधान से लेकर ग्राम विकास अधिकारी व खंड विकास अधिकारी तक इस लूट में संलिप्त रहते है। जब कि सरकार द्वारा दिया जा रहे पैसा नम्बर एक का औवल ईंट लगवाने के लिये होता है । करीब छः हजार दो सौ रूपये प्रति हजार ईंट के रेट से पैसा पास कराया जाता है जबकि भटठो पर औवल ईंट का रेट महज 5 हजार रूपये प्रति हजार ईंट है लेकिन बावजूद इसके भी यह अधिकारी कर्मचारी अपनी मोटी कमाई करने के लिए चौथे नम्बर का ईंट जो कि किसी काम का नही होता धड़ल्ले से प्रयोग करते जा रहे हैं जिसकी कीमत महज 3 से 4  हजार रुपये प्रति हजार ईंट है और बाकी की बची रकम डकारने का काम कर रहे है।

इस मामले में खण्ड विकास अधिकारी अमांवा से बात की गयी तो उन्होने बताया कि इस मामले में उन्हे अभी कोई जानकारी नही है और वह स्वयं मौके पर जाकर मामले की जाँच करेंगे और अनियमितता पायी जाती है तो दोषियों के खिलाफ कार्यवाही अवश्य की जायेगी । वहीं ग्रामीणों ने कहा कि आश्चर्य तो इस बात का है कि क्षेत्र की सबसे बडी ग्रामसभा बावन बुजुर्ग बल्ला में तैनात ग्राम विकास अधिकारी व ग्राम प्रधान अपने पूर्व के कार्यकाल में भी अपने इसी तरह के कार्यों से चर्चा का विषय बने रहे है । अब देखना है कि इनपर कार्यवाही होती भी है या नही लेकिन जल्द ही पीली ईंटों से खड़ंजे का निर्माण नही रोका गया तो इसकी शिकायत जिलाधिकारी से की जायेगी ।

रिपोर्ट – विनय सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY