अमेठी पुलिस के हत्थे चढे़ मंदिर के पुजारी व उसके पोते के हत्यारे

0
146

रायबरेली(ब्यूरो)-  बीती पांच जून 2017 की राति थाना शिव गढ़ के पारा खुर्द गाँव में मंदिर के पुजारी लक्ष्मीकांत मिश्रा व उसके पोते की हत्या कर मंदिर से लूट करने वाले अग्यात हत्यारों को जहां रायबरेली पुलिस ने चौबिस घंटे मे गिरफ्तार करने का दावा किया था| वही अमेठी पुलिस ने उक्त हत्यारों को किसी अन्य मामले मे गिरफ्तार कर लिया तो कडी़ पूछताछ मे पुजारी हत्याकांड का मामला भी प्रकाश मे आ गया और पकड़े गए आरोपियो ने हत्या की बात कबूल करते हुए वारदात की पूरी कहानी बयां कर दी|

पुलिस के मुताबिक थानाध्यक्ष मोहनगंज जनपद अमेठी द्वारा सूचना दी गई कि इस घटना से संबंधित कुछ अभियुक्त पकड़े गए हैं जो कि जनपद अमेठी में हुई घटना के साथ साथ थाना शिवगढ़ क्षेत्र में पारा खुर्द गांव में मंदिर में की गई हत्या और लूटपाट किया जाना स्वीकार कर रहे हैं और उनके द्वारा घटना में लूटा गया सामान अपने पास होना स्वीकार किया गया है। इस सूचना पर थानाध्यक्ष शिवगढ़ लालचंद सरोज अपनी टीम व वादी मुकदमा को साथ लेकर थाना मोहनगंज अमेठी पहुंचे वहां से बरामदगी स्थल पहुंचकर मौके पर पहुंचे तो वादी मुकदमा ने अपने घर से लूटे हुए सामान की पहचान किया| अभियुक्तों से पूछताछ करने पर उनके द्वारा भी उक्त घटना किया जाना स्वीकार किया गया।

उक्त घटना में लोड किए जाने और लूट का माल बरामद होने पर अभियोग में धारा 302 की जगह 396 तथा 412 भा द वि परिवर्तित की गई है अभियुक्तगण को दिनांक 22 जून को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया| पकड़े गए अभियुक्तियों मे ओम प्रकाश उर्फ जगदीश पुत्र लाल बहादुर निवासी गढ़ी पूरे अलादीन मजरे भीखी पुर थाना मोहनगंज जनपद अमेठी व कल्लू उर्फ वीरेंद्र पुत्र ओमप्रकाश उर्फ जगदीश निवासी गढ़ी पूरे अलादीन मजरे भीखी पुर थाना मोहनगंज जनपद अमेठी, टिलकू उर्फ अमर बहादुर पुत्र लाले उर्फ रामफेर निवासी गढ़ी पूरे अलादीन मजरे भीखी पुर थाना मोहनगंज जनपद अमेठी, आशीष उर्फ नंहा पुत्र इंद्रपाल वनमानुष निवासी गढ़ी पूरे अलादीन मजरे भीखी पुर थाना मोहनगंज जनपद अमेठी मुकेश उर्फ अरविंद पुत्र सर्वजीत निवासी ग्राम असनी थाना महाराजगंज जनपद रायबरेली सुरेश उर्फ मनोज पुत्र शिवबहादुर बनमानुष निवासी अदरहा थाना डलमऊ जनपद रायबरेली|

बरामद सामान

1.इनवर्टर
2.बैटरी
3.मजीरा
4.रामचरितमानस
5. सुंदरकांड की किताब

रिपोर्ट- अनुज मौर्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here