एसएसबी त्रिशूल पर्वतारोही दल को किरेन रिजिजू ने दी हरी झंडी

0
612

The Minister of State for Home Affairs, Shri Kiren Rijiju with a group of officers from SSB, ITBP, MHA and MoD enroute from Kalapani BoP of SSB to Nabhidhang, BoP of ITBP on October 18, 2015.

केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री श्री किरेन रिजिजू ने आज पिथौरागढ़ के ग्‍वालडम सभागार से माउंट त्रिशूल अभियान दल को एक समारोह में झंडी दिखाकर रवाना किया। श्री रिजिजू ने दल के सदस्‍यों को बधाई देते हुए कहा कि उन्‍होंने 15 सदस्‍यीय इस अभियान दल को सशस्‍त्र बल के नई दिल्‍ली स्‍थित मुख्‍यालय से 2 सितंबर, 2015 को रवाना किया था। उन्‍होंने खुशी जाहिर की कि टीम के सदस्‍यों ने सफलतापूर्वक त्रिशूल पर्वत पर चढ़ाई की।

श्री किरेन रिजिजू कल सुबह दो दिन के दौरे पर उत्‍तराखंड में थे। उन्‍होंने सीमा सुरक्षा बल के गुंजी, कालापानी और नाभीदंग स्‍थित काफी ऊंचाई पर स्‍थित सीमा चौकियों का दौरा किया था। श्री रिजिजू ने कई जगहों पर सीमा सुरक्षा बल और भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस के अधिकारियों और जवानों के साथ बातचीत की और गुंजी में आज सुबह काफी लंबी बैठक भी की। इस दौरान स्‍थानीय नेता भी मौजूद थे।

मंत्री महोदय ने स्‍वयं क्षेत्र में टेलीफोन संपर्क, बिजली, सड़क और स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाओं की होने वाली परेशानियों का अनुभव किया। केंद्रीय सशस्‍त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के जवानों से बातचीत के दौरान उन्‍होंने जवानों के साहस की सराहना की और उन्‍हें आश्‍वासन दिया कि वे सरकार के विभिन्‍न संबद्ध मंत्रालयों से सीमा क्षेत्र में तैनात रक्षाकर्मियों को कई दूसरे भत्‍तों के भुगतान में होने वाले भेदभाव संबंधी उनकी मांगों पर विशेष ध्‍यान देंगे। श्री रिजिजू ने सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक श्री बी.डी. शर्मा द्वारा उठाई गई चिंताओं पर भी गौर करने का भरोसा दिलाया। उन्‍होंने कहा कि वे सातवें वेतन आयोग के दल को सीमा से सटे इलाकों में ले जाएंगे जिससे दल पहली नजर में बल के जवानों के बारे में जान सके।

श्री किरेन रिजिजू पहले मंत्री हैं जिन्‍होंने कालापानी से नाभीदंग तक पैदल यात्रा की और विशेष बल, भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस और सेना के जवानों के साथ समय बिताया।

Source – PIB
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here