श्री किरेन रिजिजू ने आईटीबीपी राफ्टिंग टीम को दिखाई हरी झंडी |

0
264

The Minister of State for Home Affairs, Shri Kiren Rijiju in a group photograph, at the Flag-in ceremony of ITBP Ganga river rafting 'Clean Ganga', in New Delhi on December 21, 2015.  	The Director General (DG), ITBP, Shri Krishna Chaudhary is also seen.

केन्‍द्रीय गृह राज्‍य मंत्री श्री किरेन रिजिजू ने 45 सदस्‍यीय भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस के राफ्टिंग टीम को राफ्टिंग अभियान, 2015 को सफलतापूर्वक पूरा करके लौटने पर बधाई दी है। इस अवसर पर श्री रिजिजू ने कहा कि यह नये विचार और नजरिये वाली बिल्‍कुल अलग सोच है। उन्‍होंने कहा कि यह न सिर्फ एक साहसिक कार्य था, बल्कि एक मिशन से जुड़ा अभियान भी रहा है।

श्री रिजिजू ने यह भी कहा कि अभियान के दौरान विभिन्‍न स्‍थानों पर जागरूकता का प्रसार करने में इसका प्रभाव काफी ज्‍यादा और लंबे समय तक याद करने वाला होगा। उन्‍होंने कहा कि अभियान को वैज्ञानिक तरीके से संचालित किया गया। उन्‍होंने कहा कि गंगा पवित्र नदी है और इसे गंदा होने से बचाने की कोशिश की जा रही है। श्री रिजिजू ने देश की सुरक्षा के लिए कठिन हालात में कार्य करने के लिए भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस की सराहना भी की।

मुख्‍य अतिथि का स्‍वागत करते हुए भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस के महानिदेशक श्री कृष्‍ण चौधरी ने इस अभियान की सोच और उपलब्धि को स्‍पष्‍ट किया और कहा कि भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस इसी तरह भविष्‍य में नागरिकों से जुड़ी ऐसी पहल को निश्चित रूप से आगे बढ़ाएगी।

प्रधानमंत्री के ‘नमामि गंगे’ परियोजना से प्रभावित होकर इस केन्‍द्रीय पुलिस बल ने 02 अक्‍टूबर, 2015 से 12 दिसम्‍बर, 2015 के बीच उत्‍तराखंड के देव प्रयाग से पश्चिम बंगाल के गंगा सागर तक नदी राफ्टिंग अभियान को कामयाबी से अंजाम दिया। इसमें कुल 72 दिन लगे।

आईटीबीपी ने गंगा नदी को स्‍वच्‍छ बनाये रखने संबंधी जागरूकता का प्रसार करने के उद्देश्‍य से इस तरह के अभियान की योजना बनाई थी। इस तरह हमने नदी के स्‍वच्‍छता अभियान में योगदान देने का भी संदेश दिया। अभियान में ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ और ‘स्‍वच्‍छ भारत’ संबंधी जागरूकता कार्यक्रमों को भी शामिल किया गया था। इस अभियान को 02 अक्‍टूबर, 2015 को देव प्रयाग में जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती ने हरी झंडी दिखाई थी। इस अभियान दल ने अपनी समूची 2,350 कि.मी. की जल यात्रा पश्चिम बंगाल के गंगासागर में समाप्‍त की। इस दौरान अभियान दल ने पांच राज्‍यों के प्रमुख शहरों- ऋषिकेश, हरिद्वार, कन्‍नौज, कानपुर, इलाहाबाद, वाराणसी, पटना, मुंगेर, साहिबगंज, बहरामपुर और कोलकाता पहुंचकर पूरी की। जल यात्रा के दौरान इस दल ने मार्ग में पड़ने वाले बड़ी संख्‍या में छोटे शहरों और गांवों को स्‍पर्श किया।

अभियान के सदस्‍यों ने इस दौरान विभिन्‍न जगहों से गंगा नदी के जल नमूनों को भी इकट्ठा किया और उन्‍हें राज्‍य प्रदूषण बोर्ड के हवाले किया, जिससे इनका विस्‍तृत विश्‍लेषण किया जा सके। बाद में इस रिपोर्ट को भारत सरकार को सौंपा जाएगा। अभियान के दौरान इस दल ने रास्‍ते में रूककर नदी में बहकर आने वाली पॉलीथीन बैग और कूड़े-कचरे को भी इकट्ठा कर इन्‍हें निस्‍तारण के लिए स्‍थानीय प्रशासन को सौंपा। इस अभियान में स्‍थानीय लोगों और छात्रों ने भी हिस्‍सा लिया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY