किसानों को दी गयी किसान मित्र योजना के बारे में

0
2243

मऊरानीपुर(झाॅसी)- केन्द्र सरकार द्वारा लम्बे समय से उत्तर प्रदेश मे चल रही किसान मित्र योजना के तहत कृषि प्रसार विभाग द्वारा प्रत्येक ग्राम स्तर पर किसानो ंको सरकारी योजनाओं, नवीन कृषि तकनीकि सहित जानकारियाॅ देने के लिए ग्राम पंचायत स्तरीय कृषि कार्यकर्ता के रूप मे किसान मित्रों का चयन किया गया था। जिसमे सरकार विधिक मान्यताओं के तहत लक्ष्य के आधार पर कार्य करने व न्यूनतम मासिक मानदेय पर काम दिया जाता रहा। लेकिन 2010 नये वित्तीय वर्ष से विभाग द्वारा किसान मित्रों को बगैर लिखित सूचना दिये मानदेय सहित विभाग द्वारा बंिचत कर दिया गया।

जिसको लेकर समय समय पर किसान मित्रों की बहाली को लेकर आन्दोलन किये गये। लेंकिन बुन्देलखण्ड क्षेत्र मे तैनात विभागीय अधिकारियों ने कृषक मित्रों के द्वारा किये गये कार्यो का व्यौरा उच्चाधिकारियों व शासन प्रशासन को सही न भेजकर गुमराह करते रहे। किसान मित्रो को लम्बे अर्से से मानदेय न मिलने से परिवार के लोग भुखमरी की कगार पर आ खडे हुए है।

उपजिलाधिकारी के माध्यम से प्रधानमत्रीं , मुख्यमंत्री , कृषि मंत्री व मुख्य सचिव को प्रेषित ज्ञापन मे किसान मित्रों केा बहाल करने की माॅग सुरेन्द्र द्विवेदी , जयराम कुशवाहा , महेन्द्र सिंह सेालकीं , शशिनायक , राजाराम राजपुूत,देवेन्द्र यादव, रति राम मढवा , केशवदास गुप्ता , प्रतिपाल सिंह , दिलीप गुप्ता , राकेश कुमार , गुलाव चन्द्र अहिरवार , द्रंगपाल सिंह यादव , जगतराम , राजेन्द्र कुमार , गिरजा शंकर चैबे , महेश तिवारी ,दयाराम रैकवार , विन्द्रावन अहिरवार ,आदि ने किसान मित्रों की है।

रिपोर्ट- रवि परिहार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here