कुपोषण मुक्त हो गांव- जिलाधिकारी

0
105

प्रतापगढ़ (ब्यूरो)- जिलाधिकारी श्री शरद कुमार सिंह की अध्यक्षता में कैम्प कार्यालय में जिला पोषण समिति की मासिक बैठक की गयी। बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि कुपोषण मुक्त गांव की अवधारणा को साकार रूप देने के लिये गोद लिये गांव तथा स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत घोषित ओ0डी0एफ0 गांव को प्राथमिकता देते हुये पूरे जिले को कुपोषण मुक्त करना है।

कुपोषण मुक्त गांव की अवधारणा की मुख्य विशेषतायें राष्ट्रीय फ्लैगशिप के साथ कार्यक्रमों के साथ तालमेल, प्रत्येक गांव अपनी पूरी क्षमता के साथ प्रगति करे यह सरकार की प्राथमिकता है। गर्भावती महिलाओं की जांच ए0एन0एम0 द्वारा निरन्तर क्रम में होती रहनी चाहिये। जिस भी महिला का प्रसव जटिल हो उसे इस बात का सुझाव देना चाहिये कि किसी भी स्थित में प्रसव उसका चिकित्सालय परिसर में ही होना चाहिये। जिलाधिकारी महोदय ने सभी सी0डी0पी0ओ0 को निर्देश देते हुये कहा कि अपने क्षेत्र में कुपोषित बच्चों की पहचान एवं संख्या की जानकारी अगली बैठक में दे। इस कार्य में किसी प्रकार की शिथिलता एवं लापरवाही क्षम्य नही होगी।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री राजकमल यादव ने कहा कि हर माह मीटिंग में किये गये कार्यो की समीक्षा की जायेगी। हर अधिकारी की यह जिम्मेदारी है कि अपने दायित्वों का सम्यक निर्वहन करे, किये गये कार्यो की खानापूर्ति नही होनी चाहिये। प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्र पर एक चार्ट लगाया जाना चाहिये जिसमें कुपोषित बच्चों की संख्या एवं अन्य जानकारी भी दर्ज हो, जिससे आमजन मानस को भी इस बात की जानकारी हो कि सरकार द्वारा कौन-कौन सी योजनाये चलायी जा रही है।

आज की बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री सन्तोष कुमार श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 यू0के0 पाण्डेय, जिला पंचायत राज अधिकारी श्री कुंवर सिंह यादव, समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारी, राज्य पोषण मिशन के तहत गांवों को गोद लिये जनपद स्तरीय अधिकारी भी उपस्थित थे।

रिपोर्ट- अवनीश मिश्रा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY