लाख कवायदों के बाद भी नहीं रुक रहा बालू का अवैध कारोबार

0
55

सोनभद्र (ब्यूरो)- जनपद में इन दिनों अवैध खनन माफियाओं के आगे योगीराज की सख्ती हवा हवाई साबित हो रही है। एक तरफ अवैध काम पूरी तरह से बंद करने का दंभ भरा जा रहा है तो वहीं सोननदी से भारी पैमाने पर टीपरों से बालू का अवैध परिवहन सारी व्यवस्थाओं को पंगू बनाता नजर आ रहा है।

जानकारी के अनुसार चोपन थाना क्षेत्र के मितापुर करगरा खैरहवां पटवध सिन्धुरिया बर्दीया हाईडिल कालोनी आदि खनन क्षेत्रों से दर्जनों कि संख्या में अवैध बालू का खनन कर ढोया जा रहा है बीती रात लगभग एक बजे वन क्षेत्र अधिकारी डाला एम के यादव को मुखवीर के द्वारा सुचना मिलीं कि बर्दीया चार नम्बर बालु साइड से टीपरो के द्वारा भारी पैमाने पर बालू खनन कर ले जाया जा रहा है। जिसपर वन क्षेत्राधिकारी डाला एमके यादव वन विभाग के कर्मचारियों के साथ नदी के किनारे जैसे ही पहुंचे कि खननकर्ता भाग खडे हुए वहीं भाग रहे एक बालु कि टिपर को खरटिया गांव के समीप पकड़ कर अपने कब्जे में ले लिया।

वहीं दुसरी तरफ गुर्मा वनक्षेत्राधिकारी बलवंतसिंह द्वारा रात्रि गस्त के दौरान विना एम एम ग्यारह के भस्सी लेकर जा रही एक टिपर को पकड़ कर सिज कर दिया गौरतलब है कि इन दिनों भारी पैमाने पर बिना एम एम ग्यारह लिए टिपरो के द्वारा गिट्टी व भस्सी वेखौफ हो कर परिवहन किया जा रहा है जिससे कि राजस्व का काफी नुकसान हो रहा है। सवाल यह उठता है कि आखिर जब वन विभाग, पूलिस विभाग पूरी तरह अपनी अपनी ड्यूटी बजा रही है तो यह अवैध खनन कैसे हो रहा है। इससे साबित होता है कि कहीं न कहीं दाल में कुछ काला है।

वहीं बालू खनन कर्ता दिन दूनी रात चौगुनी करने में लगे हुए हैं। लोगों की मानें तो इस धंधे में लिप्त लोगों का पूरा एक चैनल है जो रात होते ही सक्रिय हो जाते हैं और रास्ते पर नजर रखे रहते हैं। जैसे ही कोई खतरा नजर आता है तुरंत नौ दो ग्यारह हो जाते हैं। गौरतलब है कि जबसे योगी सरकार बनी है तबसे अवैध खनन पर सख्ती बढ़ा दी गई है किंतु खनन माफियाओं के सामने सारी की सारी सख्ती बौनी साबित हो रही है। देखना होगा कि स्थानीय प्रशासन इस पर कब तक पूर्ण विराम लगा पाती है यह एक यक्ष प्रश्न है।

रिपोर्ट – ज़मीर अंसारी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY