पति की हत्या का महिला पर आरोप

0
95

मैनपुरी। गैगेस्टर कोर्ट के जज ने महिला सहित तीन को दोषी पाकर 10-10 साल की सजा सुनाई है। उनको पांच-पांच हजार रूपये का जुर्माना भी अदा करना पड़ेगा। जुर्माना अदा न करने पर एक-एक साल की अतिरिक्त सजा काटनी पड़ेगी। सजा के बाद तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया।
थाना बिछवां के तत्कालीन थानाध्यक्ष चंद्रहास तिवारी ने सात अगस्त 2010 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रिपोर्ट के अनुसार ग्राम महरमई निवासी लाल कुमार उर्फ रिंकू, अशोक कुमार तथा राजरानी गैंग बनाकर अपराध करते हैं। हत्या जैसी गंभीर वारदातों को भी अंजाम देते है। इनके भय की वजह से कोई इनके खिलाफ गवाही तक नहीं देता है। राजरानी ने अपने साथियों की मदद से पति की हत्या तक करा दी थी। पुलिस ने विवेचना के बाद चार्जशीट सुनवाई के लिए कोर्ट में भेज दी। मामले की सुनवाई गैगेस्टर कोर्ट के अपर जिला जज बच्चू सिंह की कोर्ट में की गई। छह साल तक चली सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष की ओर से वादी विवेचक सहित मुकदमे के गवाहों ने पुलिस की कहानी के समर्थन में गवाही दी। सुनवाई के आधार पर अपर जिला जमैनपुरीज ने तीनों को गैंग बनाकर अपराध करने का दोषी पाया। सहायक शासकीय अधिवक्ता सुनील कुमार शाक्य ने आरोपियों को कड़ी सजा देने की दलील दी। अपर जिला जज ने तीनों को दस-दस वर्ष का कारावास और पांच-पांच हजार रूपये का अर्थदंड लगाया। अदालत ने निर्णय में लिखा है कि राजरानी ने अपने पति की हत्या कराकर पति पत्नी के संबंध को कलंकित कर विश्वास तोड़ा है। जुर्माना नहीं देने पर उनको एक-एक साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।
रिपोर्ट – दीपक शर्मा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here