प्रधानों के कार्यकाल में नहीं मिला लाखों का रिकार्ड, नोटिस जारी

0
134
प्रतीकात्मक

रायबरेली(ब्यूरो)- ऊंचाहार ब्लाक के अन्तर्गत चार ग्राम पंचायतों मे ग्राम पंचायत के विकास कार्यों हेतु आये लाखों रूपये का लेखाजोखा नही मिलने का खुलासा प्रधान आडिट विभाग की टीम के द्वारा किये गये आडिट से हुआ है, जिस मामले मे जिला पंचायत राज अधिकारी ने तत्कालीन प्रधान व बीडीओ को कारण बताओ नोटिस जारी किया है, जिसको लेकर ब्लाक मे हडकंप मचा हुआ है।

सबसे बड़ी बात तो ये है कि इतना बड़ा घोटाला होने के बावजूद भी किसी को पता ही नही चल पाया ब्लाक के अन्तर्गत ग्राम पंचायत कोटियाचित्रा, जब्बारीपुर, सवैयाहसन, दौलतपुर के ग्राम पंचायत निधियों के तहत आये पैसा का लेखा जोखा तक नही विभाग के पास है| जिसका खुलासा जब हुआ जब सन् 2010-11 व 2012-13 मे चारो ग्राम पंचायतों के द्वारा किये गये खर्च का ब्यौरा का आडिट प्रधान आडिट विभाग की टीम द्वारा किया गया तो उस समय के ग्राम पंचायत कोटियाचित्रा का रु 14, 60,329 रूपये, ग्राम पंचायत जब्बारीपुर का रु 763983 रूपये, सवैयाहसन का रु 1521379 रूपये, दौलतपुर का रु997803 रूपये का कोई ब्यौरा ही नही मिल पाया, जिसमे पैसे गमन किये जाने की आशंका दिखी, जिस पर मामलेें को गंभीरता से लेते हुए मौजूदा जिला पंचायत राजअधिकारी ने गंभीरता से लेते हुए तत्कालीन ग्राम पंचायत के ग्राम प्रधान व बीडीओ को कारण बताओ नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा है| साथ ही खर्च पैसों का पूरा लेखा जोखा एक सप्ताह मे कार्यालय में प्रस्तुत करने को कहा गया है| अगर वे लेखा जोखा नही प्रस्तुत करते हैं तो इस स्थिति में पैसा का गमन मानकार विभागी विधिक कार्यवाही किया जायेगा।

बीडीओ रामसागर यादव से जारी हुई नोटिस के बारे में जानकारी करने पर पता चला की पैसों का लेखा जोखा नही प्रस्तुत करने पर ऑडिट विभाग द्वारा जिलापंचायत अधिकारी के यहां से नोटिस जारी हुई है। जिसको तत्कालीन बीडीओ व प्रधान को भेजी गई है। हालाँकि इस कार्यवाही से विभाग मे हडकंप मचा हुआ है।

रिपोर्ट- अनुज मौर्य/सर्वेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here