विज्ञापन के काले कारोबार से नगर पालिका  को लग रहा लाखों का चूना

0
82


मुगराबादशाहपुर : नगर पालिका क्षेत्र सार्वजनिक स्थलों पर विज्ञापन के कारोबारियों का अवैध कब्जा होता जा रहा है । आलम यह है कि बड़े बडे होर्डिंग लगाने के लिए  पहले लोहे के गाटर व एंगल बनाकर साइड खड़ी कर खाली व प्रमुख स्थानों पर कब्जा किया जाता है । फिर उसे भारी धनराशि पर होल्डिंग्स लगाकर किराए पर उठा दिया जा रहा है । विज्ञापन कारोबारियों ने इस कार्य को करने के लिए नगर के प्रमुख तिराहों को पिरमुखता दिया है । नगर स्थित प्रमुख तिराहा पर तो पूरी तरह कब्जा जमा लिया गया  है।

नियमानुसार  इसके लिए  नगर पालिका से टेंडर और अनुमति  लिए जाने का प्रावधान है । आवेदन के बाद विशेषज्ञ इंजीनियरों द्वारा विज्ञापन साइटों का भौतिक निरीक्षण व सत्यापन कर नागरिक सुरक्षा की पुष्टि होने पर ही साइटों का  शुल्क जमा करा कर वैध रूप से नगर निकाय द्वारा अनुमति प्रदान की जाती है, और प्रतिवर्ष बाकायदा विज्ञापन कर नीलामी की जाती है । इससे निकाय को अच्छी आमदनी भी होती है, जबकि मुगराबादशाहपुर नगर पालिका  में ऐसी किसी भी प्रक्रिया का पालन नहीं किया जा रहा है । मनमाने ढंग से विज्ञापन माफियाओं द्वारा होर्डिंग के व्यापार से अवैध ढंग से लाखों की काली कमाई की जा रही है तथा नगर पालिका को राजस्व को क्षति भी पहुंचाई जा रही है । स्थिति तो यह है  की विज्ञापन साइटों के निर्माण में किसी भी प्रकार से नागरिक सुरक्षा का ध्यान भी नहीं रखा जा रहा है । यदि आंधी तूफान में यह साइट गिरे तो भारी जान माल के नुकसान से इनकार नहीं किया जा सकता ।

ज्ञात हो कि पूर्व में तमिलनाडु के चेन्नई और अन्य शहरों में तूफान के दौरान ऐसे होल्डिंग से कई लोगों की जान जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट और सरकार द्वारा कड़ी गाइडलाइन जारी की गई है । जिसके अनुपालन के बगैर ऐसे विज्ञापन साइट नहीं लगाए जा सकते लेकिन मुगराबादशाहपुर में सारे गाइडलाइन फेल हैं । इस संदर्भ में पूछे जाने पर अधिशासी अधिकारी धर्म राज राम ने बताया कि विज्ञापन के लिए नियमावली तो है । लेकिन गजट जारी नहीं किया गया है। उन्होने बताया कि विज्ञापन साइटों के लिए कोई अनुमति नहीं ली गई है । इस प्रकार सभी विज्ञापन अस्थल अवैध हैं जिसके लिए अभियान चलाकर कार्यवाही करने की आवश्यकता है । अन्यथा आंधी तूफान के मौसम में संभावित जान माल के खतरे का जिम्मेदार प्रशासन ही होगा । नगर पालिका की खामोशी भारी घोटाले की आशंका को जन्म देती है । स्थानीय नागरिकों ने जिलाधिकारी जौनपुर का ध्यान आकृष्ट कराते हुए अनाधिकृत रुप से लग रही ऐसी विज्ञापन साइटों को बंद कराने की मांग किया है |

रिपोर्ट – अमित कुमार पाण्डेय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here