श्रीकोटि लक्ष्मी महायज्ञ का हुआ समापन

0
108


कानपुर(ब्यूरो)
– गंगा बैराज, गंगा तट पर 6 फरवरी से प्रारम्भ हुए कोटि लक्ष्मी यज्ञ का समापन हो गया। रविवार को माता लक्ष्मी देवी की पार्थिव प्रतिमा की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की गयी और उपस्थित आचार्यो व भक्तों में माता लक्ष्मी को नम आंखों से विदाई दी। 2500 प्रकण्ड आचार्यो द्वारा कोटि लक्ष्मी यज्ञ में लागातार रोज पूजा, अर्चन और पाठ-हवन का कार्यक्रम चल रहा था। यज्ञ की विशालता इतनी थी कि रोजाना लाखो श्रृद्धालु कानपुर ही नही बल्कि प्रदेश और देश से यहां पहुंचे थे।

रविवार को यज्ञ के समापन के साथ ही यज्ञ स्थल पर स्थापति देवी लक्ष्मी की पार्थिव प्रतिमा का विसर्जन किया गया। इस अवसर पर पहले माता की पूजा अचर्ना की गयी तथा मंत्र और स्तुतियों के साथ माता की महिमा का बखान किया गया। तद उपरांत माता की आरती और परिक्रमा की गयी। ऐसे में उपस्थित यज्ञ सम्राट प्रखर ही महाराज और अन्य श्रृद्धालुओं की आंखे नम हो गयी। सभी ने माता को भारी मन से विदाई दी। इस अवसर पर नरेन्द्र शर्मा तिरंगा, सुरेश गुप्ता, श्रीकृष्ण अग्रवाल, तिलकराज, प्रदीप गुप्ता, सुरेश नेमानी आदि हजारो भक्त उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- धर्मेन्द्र शर्मा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY