32 साल बाद ओलंपिक में भारत की इस महिला धावक ने यह कर दिखाया, पीटी ऊषा के बाद रच दिया इतिहास…

0
2636

lalita-babar
भारत की ललिता बाबर ने शनिवार को रियो में 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा के फ़ाइनल के लिए क्वालीफाई कर लिया है | ललिता का फाइनल मुकाबला सोमवार यानी 15 अगस्त को होगा. इसी के साथ ललिता पिछले 32 सालों में पहली ऐसी भारतीय महिला बन गई हैं जिसने ट्रैक स्पर्धा में ओलिंपिक एथलेटिक्स के फाइनल में जगह बनाई है | उनसे पहले 1984 में पीटी उषा ने लास एंजिलिस में 400 मीटर की ट्रैक स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाई थी |

2 जून 1989 में महाराष्ट्र के सतारा जिले के एक छोटे से गाँव में जन्म लेने वाली ललिता शिवाजी बाबर किसानों के परिवार से हैं जहाँ ज्यादातर सूखे की शिकायत रहती है | छोटी उम्र में ही उन्होंने अपने

करीयर की शुरुआत की तथा निकोलाई स्नीसरेव से कोचिंग ली ! बाबर मुख्य रूप से 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा में ही भाग लेती हैं तथा वर्तमान नेशनल रिकॉर्ड भी इन्हीं के नाम है !

2014 में हुई एशियाई चैंपियनशिप को जीतने के बाद हम आशा करते हैं के सोमवार को होने वाले फाइनल में गोल्ड जीतकर वे हमारा नाम और भी रोशन कर इतिहास रच देंगी |

By- Prateik Dwivedi

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here