भू-माफिया से साठगाँठ में बच्ची की मौत से भी नहीं पसीजा यूपी पुलिस का दिल, तड़प कर मरगयी मासूम

0
6502

image  Source - ABP
image Source – ABP

उत्तर प्रदेश में सरकार माफिया और पुलिस वाले उनके गुर्गे जसी हालत हो गयी है, जो पुलिस लोगों की सुरक्षा के लिए होनी चाहिए वही पुलिस खुद लोगों के अधिकारों का हनन कर राज्य में अराजकता और गुंडागर्दी को बढ़ावा दे रही या यूं कहें कि पुलिस खुद ही गुंडा बनकर गरीबों का शोषण और संपन्न की चाकरी कर रही है | राज्य के हालात ऐसे है कि सामान्य आदमी पुलिस का नाम सुनकर ही डर जाता है, और दबंग FIR हो जाने पर भी निश्चिन्त रहते हैं |
ताज़ा मामले में तो पुलिस ने गुंडागर्दी की हद ही कर दी है, उत्तर प्रदेश के इलाहबाद में पुलिस की अराजकता के चलते 5 साल की एक मासूम बिमारी से तड़पती रही लेकिन पुलिस प्रशासन जनता को छोड़ भू माफियाओं की चाटुकारिता में व्यस्त रहा और बेटी के इलाज के लिए माँ-बाप के रो-रो कर दुहाई देने बावजूद भी पुलिस ने दोनों को थाने में बिठाये रखा और तब जाकर छोड़ा जब पीडित परिवार की बच्ची बिमारी से तड़प-तड़प कर मर गयी |

बच्ची की मौत से गुसाए क्षेत्रवासियों और माँ-बाप ने शनिवार सुबह पुलिस प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और बीच सड़क पर बच्ची की लाश को रखकर इंसाफ की गुहार लगा रहे हैं |
माँ-बाप का कहना है कि बच्ची की मौत पुलिस वालों की अराजकता के चलते हुई है जिन्होंने बिना किसी रिपोर्ट के हमें सारा दिन ठाणे में बिठाये रखा और बार – बार कहने के बावजूद भी जाने नहीं दिया |

इलाहबाद में किराए पर बांस बल्ली सप्लाई करने का कारोंबार करने वाले शहर के बेनीगंज इलाके के सुधीर कुशवाहा का आरोप है कि उसकी एक ज़मीन पर इलाके के कुछ भू माफियाओं की नजर थी, भू माफिया उस पर ज़मीन बेचने का दबाव डालते थे. आरोप है कि सुधीर इसके लिए राजी नहीं हुआ तो भू माफियाओं ने पुलिस से सांठ-गांठ कर उस पर जबरन सुलह कराने की रणनीति बनाई |

पिता सुधीर ने सीना पीट-पीटकर अफसरों से यह सवाल पूछ रहा है कि पुलिस आखिर उन्हें किस जुर्म में घर से पकड़कर ले गई थी पीड़ित पिता के इस सवाल के जवाब में वहां मौजूद पुलिस वालों के पास सिर झुकाने के अलावा कोई रास्ता नहीं था. पड़ोसियों का भी साफ़ तौर पर कहना है कि बच्ची राधिका की मौत पुलिस की वजह से इलाज नही हो पाने के चलते हुई है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here