अधिवक्ताओं ने किया जिला जज व सीजेएम कोर्ट का बहिष्कार, गुस्से में दिखे सीजेएम

0
98

सुल्तानपुर ब्यूरो : अधिवक्ताओ ने अपनी मांगे न पूरी होने पर पूर्ण रूप से बुधवार को जिला जज व सीजेएम कोर्ट का बहिष्कार किया। इस दौरान जिला जज की अदालत पर तो मुकदमे के किसी भी पक्षकार पर खिलाफ में कार्यवाही की बात सामने नही आई,लेकिन वही सीजेएम विजय कुमार आजाद कड़े रुख में दिखे,नतीजतन कई प्रार्थना पत्र अनुपस्थित दर्शाते हुए ख़ारिज कर दिए गए और कई मुकदमो में पड़ी अर्जियां निरस्त कर वारंट भी जारी करने का आदेश दिया गया।ऐसे में वादकारियों के लिये नई समस्या बनती नजर आ रही है।

मालूम हो कि वाहन पार्किंग, पेयजल व्यवस्था, पूर्वी गेट का निर्माण न होने व न्यायिक कामकाज में मनमानेपूर्ण रवैया बताते हुए अधिवक्ताओ व वादकारियों को हो रही परेशानी समेत अन्य मुद्दों को लेकर अधिवक्ता संघ ने मांगे न पूरी होने पर जिला जज व सीजेएम कोर्ट का बुधवार से बहिष्कार जारी कर दिया।इस दौरान दोनों अदालतों पर देखरेख के लिए निगरानी समिति का गठन भी किया गया था, नतीज़तन कोई भी अधिवक्ता इन अदालतों में काम करने नही जा सके और बहिष्कार के चलते दिन भर पूर्ण रूप से कार्य प्रभावित रहा।

इस दौरान जिला जज प्रमोद कुमार की अदालत पर तो मुकदमे के किसी भी पक्षकार के खिलाफ आर्डर होने की बात सामने नही आई बल्कि तारीखे ही लगी। लेकिन सीजेएम विजय कुमार आजाद कल काफी कड़े रुख में नजर आये और निर्धारित समय तक दिन भर कोर्ट पर बैठे रहे। मिली जानकारी के मुताबिक उनकी अदालत पर कल की डेट में लगे कई दर्जन प्रार्थना पत्र अनुपस्थित दर्शाते हुए ख़ारिज कर दिए गए, इसके अलावा कई मामलो में हाजिरी माफ़ी अर्जी निरस्त कर मुल्जिमो के विरुद्ध वारंट जारी करने की बात सामने आई।कई मामलो में तो अधिवक्ता के बजाय वादकारी ही स्वयं सीजेएम कोर्ट में अपनी बात कहने गये थे लेकिन उनकी बातों को भी अदालत में तवज्जो न मिलने की चर्चाएं रही। फ़िलहाल अधिवक्ता व न्यायिक अधिकारियो के बीच चल रही इस लड़ाई में वादकारी ही पिसते नजर आ रहे है।वहीं जिला जज की तरफ से अब भी कोई प्रतिक्रिया न आने की वजह से आज भी दोनों अदालतों का कार्य बहिष्कार जारी रखने का अधिवक्ताओ ने फैसला किया है।अध्यक्ष-सचिव ने बताया कि शुक्रवार को इस मुद्दे पर साधारण सभा की बैठक कर आगामी रणनीति तैयार की जायेगी और सोमवार से उस रणनीति के अनुसार लड़ाई लड़ी जायेगी।

रिपोर्ट – संतोष यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here