मुंहमांगी रिश्वत नहीं मिलने पर लेखपाल ने लगाई विपरीत रिपोर्ट, लेखपाल के विरुद्ध कार्यवाही की मांग

कुशीनगर(ब्यूरो)- तहसील कप्तानगंज क्षेत्र के रामकोला बिकास खण्ड के ग्राम कुसम्हा के एक पीड़ित व्यक्ति ने अपनी माली हालत खराब होने पर मुख्यमन्त्री योगी आदित्य नाथ से आर्थिक सहायता की गुहार लगाई उसके बाद जिलाधिकारी कार्यालय पहुँच कर एक पत्र प्रस्तुत किया, जिसमे उक्त पत्र उपजिलाधिकारी कप्तानगंज से जाँच कर उक्त पीड़ित की पत्रावली जिलाधिकारी कार्यालय को प्रस्तुत करने को कहा एसडीएम कप्तानगंज ने  उक्त पत्र में कानूनगो व लेखपाल की आख्या मांगी लेकिन पत्र मिलने के बाद हल्का लेखपाल ने अपने आदमी को पीड़ित के पास भेजा जब पीड़ित लेखपाल के पास पहुंचा तो लेखपाल ने कहा सहायता तभी मिलेगी जब मुझे सुकरना मिलेगा तभी आपके पक्ष में रिपोर्ट जायेगी| अगर ऐसा नहीं तो रिपोर्ट प्रतिकुल भेज दूंगा।

पीड़ित अपने निकटवर्ती साथियों से मांग कर 2 बार में अलग-अलग जगहों पर 5-5-हजार रुपया दिया| इस तरह 10 हजार रुपया पाने के बाद भी 10 हजार की धनराशि की मांग पर अड़ा रहा, जब पीड़ित 20 हजार पूरा नहीं दे सका तो लेखपाल ने अपनी करतूत दिखाई और पीड़ित के भाइयों की चल अचल सम्पति को पीड़ित की संपत्ति दिखाकर गलत आख्या जिला प्रशासन को प्रेषित कर दी, जिसके वजह से पीड़ित को लाभ से बंचित होना पड़ा।

पीड़ित ने उक्त सम्बन्ध में एसडीएम कप्तानगंज को गत 4 जुलाई 2017 को लिखित शिकायती पत्र भेजकर उक्त क्षेत्रीय लेखपाल रामप्रवेश कुशवाहा के बिरुद्ध उचित कार्यवाही की मांग की साथ ही साथ उक्त प्रकरण में मुख्यमन्त्री योगी आदित्य नाथ के ट्यूटर पर लिखित शिकायत भेज कर उचित कदम उठाते हुए सहायता उपलब्ध  कराने की मांग की साथ ही उक्त लेखपाल के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here