लिंगाई देवी मंदिर – यहाँ माता की पूजा शिवलिंग के रूप में होती है, मान्यता है कि खीरा खाने से होती हिं संतान की प्राप्ति

0
1499

http://legion-food.ru/library/k10-marshrut-na-karte.html к10 маршрут на карте lingai mata temple

язык тела парней

http://ip.wtolk.ru/library/prikaz-virusniy-gepatit-rk.html приказ вирусный гепатит рк हमारे देश में मंदिरों और तीर्थों की संख्या अनगिनत हैं ऐसे में बहुत से तीर्थ ऐसे भी है जो साधारण लोगों की पहुँच से आज भी दूर हैं I तीर्थों इन पवित्र मंदिरों तक लोगों की पहुँच न होने के पीछे कई कारण हैं जैसे कि कुछ ऐसे दुर्गम स्थानों पर है जहाँ पर लोगों का पहुँचाना असंभव हो जाता है तो कुछ विशेष कारणों की वजह से आम जनता से दूर है I

http://dexter.ru/priority/polukrugloe-kriltso-iz-betona-svoimi-rukami.html полукруглое крыльцо из бетона своими руками

сонник к чему снится ураган ऐसा ही एक मंदिर स्थित हैं छत्तीसगढ़ राज्य के आलोर गाँव में एक तो सबसे बड़ी बात है कि यह मंदिर नक्सल प्रभावित एरिया में आता इसीलिए भी लोगों की पहुँच से दूर है तो दूसरी बात यह भी हैं कि यह मंदिर साल में केवल एक ही बार खुलता है इसलिए भी यहाँ पर कम लोग ही पहुँच पाते है I इस मंदिर को लिंगाई माता के नाम से जाना जाता है और आपको बता दें कि यह मंदिर एक प्राकृतिक गुफा के भीतर स्थित है I इस मंदिर में कोई देवी की मूर्ती नहीं है बल्कि यहाँ पर एक प्रकृति निर्मित शिवलिंग है जिसे लोग कहते है कि देवी यहाँ पर शिवलिंग के रूप में विराजमान है I

отруби где продаются

http://desktoparmy.com/priority/ohrannaya-zona-pamyatnikov-istorii-i-kulturi.html охранная зона памятников истории и культуры  

http://motorcycletoolshub.com/owner/alpari-shelehov-tv-novosti-22-iyunya.html альпари шелехов тв новости 22 июня http://blog.buh-kons.ru/priority/zhk-moskvi-na-karte.html жк москвы на карте साल में केवल एक ही बार खुलता है मंदिर –

печь на улице своими руками пошаговая инструкция गुफा के अन्दर निर्मित इस मंदिर का दरवाजा भी इतना संकरा है कि इस गुफा में आप केवल बैठ कर या फिर लेट कर ही जा सकते है इसके अलावा और कोई रास्ता नहीं है लेकिन मंदिर के भीतर पहुँच कर वहां कम से कम 20-25 लोग आसानी से बैठ सकते है I प्रतिवर्ष भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष नवमीं तिथि के पश्चात आने वाले बुधवार को इस प्राकृतिक देवालय को खोल दिया जाता है, तथा दिनभर श्रद्धालुओं द्वारा पूजा अर्चना एवं दर्शन की जाती है।

lingai-mata-553f39b5ddaff_l

статья 10 зозпп स्थानीय लोगों की ऐसा मान्यता कि यहाँ पर उन लोगों की मुराद पूरी होती है जो संतान प्राप्ति के लिए यहाँ आते है I उन्हें खीरा अपने साथ लाना होता है और वह खीरा यहाँ चढ़ाया जाता है और पूजा के बाद उस खीरे को उस दंपत्ति को पुजारी वह खीरा वापस कर देता है I दंपत्ति को वह खीरा अपने नाखूनों से फाड़कर वही खाना होता है जिससे उन्हें संतान की प्राप्ति होती है I

http://huanluyen.phamtienhung.vn/owner/medvedka-kak-s-ney-borotsya-forum.html медведка как с ней бороться форум  

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

http://www.mik-coop.ru/library/peterburgskoe-obrazovanie-rezultati-oge.html петербургское образование результаты огэ

http://braggi.ru/owner/osb-3-22-mm.html osb 3 22 мм

http://drinnamertsalova.com/owner/kak-sohranit-semeyniy-brak.html как сохранить семейный брак

http://solarverse.com/priority/test-chleni-predlozheniya-3-klass.html тест члены предложения 3 класс

minecraft pocket edition

http://showplace.landmarkds.com/owner/5-formi-i-metodi-organizatsii-zagotovitelnogo-proizvodstva.html 5 формы и методы организации заготовительного производства eleven − two =

читай город адреса в москве