फगुआ गायकी की खुमारी में झूमें श्रोता

0
109

नौपेड़वा/ जौनपुर (ब्यूरो)- बक्शा विकास खण्ड के सुजियामऊ गांव में सोमवार को पारंपरिक होली गीत का आयोजन किया गया। इस दौरान फगुआ गीतों व वाद्य यंत्रों की धुन पर श्रोता मन्त्र मुग्ध हो गये। जिसको सुनने के लिए श्रोता दूर-दराज से पहुँचे थे। कलाकारों ने अवधी, फगुआ, उलारा, चैता, बेलवइया, चहका, धमार आदि गीत की शानदार प्रस्तुति दी।

पूर्व ब्लाक प्रमुख श्री पति उपाध्याय उर्फ भैवा के आवास पर आयोजित होली मिलन गीत में प्रज्ञा चक्षु प्रख्यात गायक बाबू बजरंगी सिंह ने धमार गीत मन बसा मोर वृन्दाबन में एवं वैसवारा करिहौ का यार करिहौ का यार , मैं तरुणी हरि छोट जतन करिहौ का यार सुना श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। इसके अलावा बड़कऊ उपाध्याय द्वारा चहका झोकवन बहई बयार अटरिया लम्बी छवाई द बालम प्रस्तुत कर मंत्रमुग्ध कर दिया। त्रिवेणी पाठक द्वारा बेलवइया गीत जब पाय अन्तरदेशी चला आय बलम परदेशी सुनाया तो श्रोता वाह-वाह कर बैठे।

प्रख्यात गायक लालसाहब पाठक, कैलाश शुक्ल, रामनवल शुक्ल, रामसकल दूबे, रामजी मिश्र, मीनू दूबे, अम्बिका उपाध्याय, कृष्णानन्द उपाध्याय आदि ने लुप्त हो रही लोकगीतों की बेहतरीन प्रस्तुति दी। अंत में आयोजक एवं गीतों के संरक्षण में प्रमुख योगदान करने वाले श्री पति उपाध्याय ने आये हुए लोगो के प्रति आभार जताया। इस दौरान विद्यापति त्रिपाठी, भुलेश्वशर पाण्डेय, कृष्णकांत उपाध्याय, सत्यनारायण मिश्र, सूर्यनारायण तिवारी, शनि उपाध्याय , रामआसरे सिंह, वशिष्ठ नारायण सिंह, मनोज सिंह, शीतला प्रसाद उपाध्याय, विद्या उपाध्याय आदि लोग मौजूद रहे।

रिपोर्ट- डा०अमित कुमार पाण्डे़य
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here