छोटे दूधियों द्वारा मिलावट का काम जारी

0
101

बीघापुर उन्नाव(ब्यूरो)– शादी ब्याह के सीजन में साधारण से दिखने वाले दूधियो की चांदी है ,सेल टैक्स इनकम टैक्स और खाद्य विभाग इनकी बिक्री होने वाली आय और दूध की शुद्धता के कारनामो से अंजान है| शादी के सीजन में दूधिये खतरनाक रसायन से युक्त तथा गुणवत्ता विहीन दूध शादी वाले घरो में बेचकर खुद तो मालामाल हो रहे है, परन्तु उपभोक्ता का आर्थिक शोषण और खाने वालो को स्वर्ग भेजने की तैयारी कर रहे है| सूत्र बताते है कि यह दूधिये किसान से औने पौने दामो में दूध खरीद कर स्वयं महगे दामो में बिक्री करते है| वहीँ दूध की शुद्धता भी भगवान भरोसे है|

बताया जाता है कि बीस लीटर दूध में पाँच लीटर पानी की मिलावट सामान्य सी बात है| इन दूधियों के लिए, वही किसानो के यहाँ से सुबह का दुहाया हुवा दूध देर शाम तक ख़राब न हो इसके लिए खतरनाक रसायन की मिलावट भी इनके द्वारा की जाती है| शुद्धता तथा नाप को छुपाने के लिए यह शातिर दूधिये शादी वाले घरो में जो हलवाई बुक होता है, उसको अपने कोड वार्डो में पटा लेटे है| वह भाषा घर मालिक भी जान नही पाता है और दूधिये कारीगर का कमीशन सेट हो जाता है| अब इस दूध से वर मरे या कन्या इनको अपने दाम से मतलब| सेल टैक्स, इनकम टैक्स तथा खाद्य विभाग इनके कालेकारनमो से शायद अभी तक अंजान है| तभी तो उपभोक्ता का आर्थिक शोषण और लोगो को बीमारी की गर्त में धकेल कर खुद माल काट रहे है| अब सम्बंधित विभागों की नजर इन कलयुग के काल बने दूधियों पर पड़ेगी या इसी तरह इनका काला धंधा फ़ले फूलेगा यह भविष्य के गर्भ में है|

रिपोर्ट- मनोज सिंह
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY