भदोही में रोक के बावजूद माफिया चीर रहे गंगा की छाती

0
50

भदोही (ब्यूरो) ज़िले में खनन माफिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट नमामि गंगे की धज्जियां उड़ा रहे हैं। कोइरौना थाना क्षेत्र के कूड़ीकला गांव के भटगवां गंगाघाट से चोरीछिपे बड़े पैमाने पर बालू का अवैध खनन हो रहा था। बता दें कि उक्त घाट से शनिवार शाम को बालू लदा महिंद्रा ट्रैक्टर पकड़ा गया, जिसे सीज कर दिया गया। क्षेत्रवासियों के मुताबिक कई दिनों से भटगवां गंगा घाट पर थोड़ा-थोड़ा कर बालू ले जाया जा रहा था। शनिवार को पहुंचे एसडीएम ज्ञानपुर सुनील कुमार व सीओ रामकरन ने बालू के अवैध खनन में लिप्त ट्रैक्टर को पकड़ किया। इस दौरान एसओ कोइरौना वीके सिंह भी मौजूद थे। उन्होंने बताया कि जिस ट्रैक्टर को पकड़कर सीज किया गया है उसमें वास्तविक ट्राली के जगह एंगल, पटरा व बोरे द्वारा बनी जुगाड़ ट्राली लगी हुई है। और उसपर करीब 30 बोरी बालू लदने की जगह है। हालांकि ड्राइवर के पकड़े जाने के सवाल पर वे चुप्पी साध गए।

सूत्रों से पता चला कि ट्रैक्टर दुगुना गांव निवासी किसी व्यक्ति का है। इस कार्यवाही से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है। अवैध खनन में लगे इन माफियाओं को न ही नेशलन ग्रीन ट्रिब्यूनल की परवाह है और न ही प्रशासन का डर है। यह सही है कि योगी सरकार आने के बाद से यह खुले रूप में विल्कुल बन्द है लेकिन किसी किसी घाट पर पुलिस की लापरवाही या मिलीभगत से इस तरह कार्य अभी भी जारी है। गंगा किनारे चल रहे अवैध खनन से जहां गंगा की जलधारा प्रभावित हो रही है। वहीं जल जीवों पर भी इसका बुरा असर पड़ रहा है। उदाहरण के रूप में देखें तो भटगवां घाट पर ही कुछ दिन पूर्व गंगा में नहा रहे चार बच्चे काल के गाल में समा गए थे। अतः प्रशासन को कहीं न कहीं और सतर्कता बरतने व कठोर कदम उठाने की जरूरत है।

रिपोर्ट – रामकृष्ण पाण्डेय 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY