अपनी भूलों को स्वीकारना

0
292

अपनी भूलों को स्वीकारना उस झाडू के समान है जो गंदगी को साफ कर उस स्थान को पहले से अधिक स्वच्छ कर देती है।

mahatma gandhi 23

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here