सूर्यास्त की लालिमा और गाँधी जी

0
239

जब भी मैं सूर्यास्त की अद्भुत लालिमा और चंद्रमा के सौंदर्य को निहारता हूँ तो मेरा हृदय सृजनकर्ता के प्रति श्रद्धा से भर उठता है।

mahatma gandhi 2

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

9 − 5 =