धान की नर्सरी डालने से पहले बीज शोधन/भूमि शोधन अवश्य करें: जिला कृषि रक्षा अधिकारी

0
81

प्रतापगढ़(ब्यूरो)- जिला कृषि रक्षा अधिकारी श्री अमित जायसवाल ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से किसान भाईयों को अवगत कराया है कि वर्तमान में खरीफ के अन्तर्गत धान की नर्सरी डालने का समय नजदीक आ गया है। धान की नर्सरी डालने से पहले बीज शोधन अवश्य किया जाये। फसलों में रोग मृदा, वायु एवं कीट द्वारा फैलते है, बीज जनित रोगो का कोई भी उपचार सम्भव नहीं है।

विगत वर्षो में जिन कृषक भाइयों ने बीज शोधन अपनाया था, उनके फसल में व्याधि नहीं पायी गयी है। बीज जनित रोगो से आगामी बोई जाने वाली फसल के बचाव हेतु बीज शोधन एवं भूमि शोधन अत्यन महत्वपूर्ण है। किसान भाईयो को बीज शोधन एवं भूमि शोधन जैसे महत्वपूर्ण कार्य के प्रति विशेष ध्यान देना होगा।

बीज शोधन के लिये किसान भाई बीज को रात भर पानी में भिगोने के बाद दूसरे दिन पानी से निकालकर अतिरिक्त पानी निकल जाने के बाद 2.5-3 ग्राम कार्वेन्डाजिम 50 प्रतिशत या थीरम 75 प्रति0 अथवा 4 से 5 ग्राम ट्राइकोडर्मा वायो रसायन प्रति किग्रा0 बीज की दर से 5 लीटर पानी में 10 ग्राम गुड़ के साथ घोलकर बीज में मिला दिया जाये, इसके बाद छाया में अंकुरित होने तक रखा जाये, तत्पश्चात् नर्सरी डाली जाय। भूमि शोधन हेतु किसान भाई 2.5 किग्रा0/हेक्टे0 ट्राइकोडर्मा या ब्यूबेरिया बैसियाना बायो रसायन को 75 किग्रा0 सड़ी हुई गोबर की खाद में मिलाकर 10-12 दिन तक छाया युक्त स्थान पर रखकर पानी के छीटे मारते रहें तत्पश्चात् इस 75 किग्रा0 गोबर की खाद जो कि बायो पेस्टीसाइड में तब्दील हो चुका है। इसे जुताई करके खेत में मिला दें इससे खेत में मौजूद दीमक एवं फफूंद से छुटकारा मिलेगा साथ ही साथ खेत में जैविक खाद की कमी भी पूर्ण हो जायेगी।

उपरोक्त बीज शोधन/भूमि शोधन रसायन कृषि रक्षा इकाईयों पर 75 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध है। उन्होने किसान भाईयों को यह भी बताया है कि रसायनों पर अनुदान की सुविधा केवल पंजीकृत कृषकों को ही देय होगी एवं अनुदान का भुगतान डी0बी0टी0 के माध्यम से सीधे कृषक के खाते में किया जायेगा, अधिक जानकारी के लिये जिला कृषि रक्षा अधिकारी के दूरभाष संख्या-9235209460 पर सम्पर्क कर सकते है।

रिपोर्ट- विश्वदीपक त्रिपाठी 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY