मलेशिया ने भारत में शहरी विकास और आवास परियोजनाओं में 30 अरब डॉलर के निवेश का प्रस्‍ताव रखा |

0
348

The delegation of SANY Group and Chinese Businessmen call on the Prime Minister, Shri Narendra Modi, in New Delhi on October 15, 2015.

मलेशिया के निर्माण उद्योग विकास बोर्ड (सीआईडीबी) ने भारत में शहरी विकास और आवास परियोजनाओं में 30 अरब डॉलर के निवेश का प्रस्‍ताव रखा है। मलेशिया के निर्माण मंत्री श्री हाजी फदील्‍लाह बिन हाजी यूसूफ के नेतृत्‍व में एक 30 सदस्‍यीय व्‍यवसाय शिष्‍टमंडल ने आज नई दिल्‍ली में शहरी विकास और आवास एवं शहरी गरीबी उन्‍मूलन मंत्री श्री वेंकैया नायडू के साथ इस बारे में विस्‍तार से चर्चा की।

मलेशिया के मंत्री ने श्री नायडू को बताया कि ‘विकसित हो रहा भारत बहुत रोमांचक है और यही वजह है कि मैं यहां मलेशिया के सरकारी एवं निजी क्षेत्र की 12 अग्रणी कंपनियों के वरिष्‍ठ प्रतिनिधियों के एक विशाल शिष्‍टमंडल के साथ यहां आया हूं’।

एक सरकारी एजेंसी सीआईडीबी की तरफ से श्री वेंकैया नायडू और दो शहरी मंत्रालयों के वरिष्‍ठ अधिकारियों के सामने दो प्रस्‍तावित परियोजनाओं के लिए संकल्‍पना योजनाएं पेश की गई। नई दिल्‍ली रेलवे स्‍टेशन के समीपवर्ती क्षेत्र के एक लघु-स्मार्ट सिटी के रूप में पुनर्विकास की योजना लगभग 24 अरब डॉलर निवेश के साथ शुरू की जाएगी। सीआईडीबी ने लगभग 4 अरब डॉलर की लागत से उत्‍तर प्रदेश के गढमुक्‍तेश्‍वर में आवासीय एवं गंगा स्‍वच्‍छता परियोजनाओं से जुड़ी एक ग्रीन सिटी परियोजना बनाने का भी प्रस्‍ताव रखा है। शहरी विकास मंत्रालय की राष्‍ट्रीय भवन निर्माण निगम (एनबीसीसी) इन परियोजनाओं के साथ जुड़ेगी।

भारत में निवेश करने की मलेशिया की दिलचस्‍पी की सराहना करते हुए श्री नायडू ने एनबीसीसी को सलाह दी कि इस पर और अधिक विचार करने के लिए रेलवे, वित्‍त, जल संसाधन के संबंधित मंत्रालयों एवं दिल्‍ली सरकार तथा उत्‍तर प्रदेश के सामने वह एक विस्‍तृत प्रस्‍तुतीकरण पेश करे।

सीआईडीबी एक सरकारी एजेंसी है, जिसने 1995 में अपनी शुरूआत के बाद से अभी तक 24 अरब डॉलर के निवेश से विभिन्‍न विदेशी निर्माण परियोजनाओं को क्रियान्‍वित किया है तथा 8 अरब डॉलर के बराबर की परियोजनाओं पर वर्तमान में काम चल रहा है।

मलेशिया के शिष्‍टमंडल में सीआईडीबी, मलेशियन हाईवे ऑथोरिटी (एलएलएम), पेंबीनान और एक्‍जिम बैंक जैसी सरकारी एजेंसियों तथा आईजेएम कंस्‍ट्रक्‍शन, यूईएम ग्रुप, सेलिया ग्रुप, अमोना ग्रुप, सनवे कंस्‍ट्रक्‍शन, केएलसीसी प्रोजेक्‍स, सीओमी इंटरनेशनल एवं वेरिटास आर्किटेक्‍टस जैसी निजी क्षेत्र की कंपनियों के वरिष्‍ठ प्रतिनिधि शामिल थे।

कुआलालाम्पुर में पेट्रोनेस टावर के भवन के साथ जुड़ी एक प्रोपर्टी इंवेस्‍टमेंट एवं फेसिलिटी मैनेजमेंट सर्विसेज कंपनी केएलसीसी ने भारत में स्‍मार्ट सिटी के विकास में गहरे दिलचस्‍पी दिखाई है। पेंबीनान ने भी भारत की किफायती आवासीय परियोजनाओं में ऐसी ही दिलचस्‍पी जताई है।

चीन की कंपनियों ने भी दिलचस्‍पी प्रदर्शित की

सैनी ग्रुप के चेयरमैन श्री लियांग वेनगेन के नेतृत्‍व में 20 सदस्‍यीय एक बड़े चीनी शिष्‍टमंडल ने भी श्री वेंकैया नायडू से मुलाकात की और भारत में शहरी क्षेत्र की नई पहलों में निवेश अवसरों पर चर्चा की। इस शिष्‍टमंडल में स्‍टेट पावर इंवेस्टमेंट कॉरपोरेशन, पावर कंस्‍ट्रक्‍शन कॉरपोरेशन ऑफ चाइना, चिंट ग्रुप (औद्योगिक बिजली उपकरण एवं ऊर्जा), चाइना मिनसेंग इंवेस्‍टमेंट कॉरपोरेशन (निजी वित्‍तीय निवेश), सीसीटीईजी शेनयांग इंजीनियरिंग कंपनी (डिजाईनिंग), टेबियन इलेक्‍ट्रिक एपेरेटस, स्‍टॉक कंपनी (ट्रांसफॉर्मर्स) और गोल्‍डेन कांकोर्ड होल्‍डिंग्स लिमिटेड (इंटीग्रेटेड एनर्जी) समेत चीन की सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र की 9 कंपनियों के प्रतिनिधि शामिल थे।

सैनी ग्रुप चीन की पहले स्‍थान की एवं दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी कंस्‍ट्रक्‍शन मशीनरी निर्माता कंपनी है जिसका बाजार पूंजीकरण 21 अरब डॉलर है।

श्री वेंकैया नायडू ने नए शहरी अभियानों की शुरूआत करने तथा एक ‘प्रगतिशील स्‍थान तथा पसंदीदा वैश्‍विक निवेश गंतव्‍य’ के रूप में भारत के उद्भव का जिक्र करते हुए शहरी विकास और आवासीय क्षेत्रों में निवेश अवसरों के बारे में दोनों शिष्‍टमंडलों को विस्‍तार से जानकारी दी। उन्‍होंने अर्नेस्‍ट एंड यंग की नवीनतम रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें 500 वैश्‍विक कंपनियों के सर्वे के बाद भारत को सबसे पसंदीदा निवेश गंतव्‍य की संज्ञा दी। श्री नायडू ने कहा कि भारत में ‘व्‍यवसाय करने की सरलता’ को बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। उन्‍होंने बताया कि चिह्नित शहरी क्षेत्रों के पुन:संयोजन और पुनर्विकास में स्‍मार्ट सिटी अभियान निवेश के बेशुमार अवसरों की पेशकश करता है। इसके अतिरिक्‍त, ग्रीनफील्‍ड टाउनशिप एवं सार्वजिनक परिवहन के निर्माण, ठोस अपशिष्‍ट प्रबंधन, 24 घंटे जल एवं बिजली की आपूर्ति, स्‍मार्ट ग्रिड प्रबंधन एवं अन्‍य पैन-सिटी स्‍मार्ट सोल्‍यूशन्‍स आदि में भी निवेश की प्रचुर संभावना है।

Source – PIB

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

http://spbvolvo.ru/loadnews/sitemap30.html масло чайного дерева полезные свойства 6 + 2 =