बाबा ने अपना पूरा जीवन प्रकृति के नाम कर 600 एकड़ का जंगल खड़ा कर दिया

0
362

संध करमरी गाँव के दामोदर दास ने अपना सारा जीवन गाँव में हरियाली वापस लाने में लगा दिया, ओडिशा की सीमा से सटे बस्तर के बकावंड इलाके में संध करमरी गाँव के ३५ साल तक सरपंच रहे, आस-पास के सभी लोग दामोदर दास को बाबा के नाम से जानते हैं |

तीस साल पहले जब वन विभाग के लोगों ने आस-पास के जंगल काट दिए और गाँव के लोगों ने अतिक्रमण करके खेती शुरू कर दी, बाबा ने लोगों को समझाया और फिर वहां  गाँव के लोगों के साथ मिलकर पौधे लगाना शुरू कर दिया और धीरे – धीरे पूरे चार सौ एकड़ में पौधे लहलहाने लगे|
जंगल को अतिक्रमण से बचने के लिए बाबा और आस – पास के गाँव के लोगों ने सारी ज़मीन कुलदेवी के नाम कर दी | कुलदेवी के नाम पर ज़मीन होने के कारण सारा जंगल अतिक्रमण से बच गया और जंगल से हुई आमदनी से कुलदेवी का मंदिर भी बनवाया गया | बाबा ने अपनी ज़मीन भी गाँव को दान कर दी और उस पर भी पेड़ लगवा दिए |

damodar_kashyap_bastar_treeman_624x351_alokputul

जंगल को बचने के लिए सबके साथ मिलकर कुछ नियम भी बनाये, गाँव के लोग जंगल में उपजने वाले आम, महुआ, चिरौंजी, काजू सब ले सकते हैं पर जंगल की सूखी लकड़ी भी पंचायत की इजाजत के बिना नही ले सकते |जंगल को बाहरी लोगों से बचाने के लिए भी कुलदेवी का सहारा लिया गया एक डंडे पर मंदिर के कुछ कपडे बाँध के गाँव के तीन लोगों को ये जिम्मा दिया गया कि वो इस डंडे ( टेगापोली ) को पुरे जंगल में घुमाएँगे| हर सुबह गाँव के तीन लोग टेगापोली को लेकर जंगल में निकलते हैं और शाम को टेगापोली अपने पडोसी के घर छोड़ जाते हैं दुसरे दिन पडोसी और उसके घर से लगे अगले दो घर के लोग को टेगापोली को लेकर जंगल में निकलते है अगर कोई टेगापोली लेकर नही गया तो उसे पांच सौ रुपए जुर्माना देना पड़ता है, पिछले 6 – 7 सैलून में ऐसा कभी नहीं हुआ की कोई टंगा लेकर न गया हो |

संध करमरी का यह जंगल अब पूरे 600 एकड़ में फ़ैल गया है, बाबा और गाँव वालों ने मिलकर जिस तरह प्रकृति को बचाया है वो एक सराहनीय काम है, हम सभी को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए और कम से अपने आस – पास जहाँ भी संभव हो पौधे लगाकर प्रकृति को बचाने की कोशिश करनी चाहिए |

damodar_kashyap_bastar_treeman_4_624x351_alokputul

पर्यावरण दिवस के मौके पर 100 पौधे लगाकर अखंड भारत परिवार इस मुहीम की शुरुवात के रहा है आप बी हमारी इस मिहीम का हिस्सा बनें और पौधे लगायें हमें अपनी फोटो भेजें हम उसे अपनी वेबसाइट और पेज के माध्यम से लोगों तक पहुचाएंगे ताकि और भी लोग आपसे प्रेरणा ले सकें |

source – बीबीसी हिंदी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

15 + twelve =