मंदसौर के किसानों की बरसी पर 6 जून 2018 को बाही चौपाटी पिपलिया गाँव में बनेगा स्मारक- वीएम सिंह

0
96

नई दिल्ली (ब्यूरो)- दिल्ली किसान मुक्ति यात्रा में बीते कल की यात्रा में किसान नेताओं ने बूढ़ा गाँव में शहीद किसानों को श्रद्धांजलि दी। किसान नेताओं ने कंधे पर काँवड़ से पानी ले जाकर किसानों को श्रद्धांजलि दी। मध्यप्रदेश सरकार ने किसान नेताओं को श्रद्धांजलि देने से रोकने का प्रयास करते हुए गिरफ्तार कर लिया और धालोद अनाज मंडी में कैद कर दिया। बूढ़ागाँव में किसानों को सम्बोधित करते हुए वीएम सिंह ने कहा कि अगले साल 6 जून 2018 को किसानों की आत्महत्या की बरसी पर स्मारक बनाया जाएगा।

धालोद मंडी में आयोजित किसान महासभा को सम्बोधित करते हुए डॉक्टर सुनीलम ने सरकार की कड़ी भर्त्सना की।उनका कहना था कि हम किसानों को न्याय दिलाने के लिए इस लड़ाई को अंतिम सांस तक लड़ेंगे साथ ही उन्होंने सभा में आये सभी महिलाओं,नवयुवकों और अन्य किसानों को अहिंसक आन्दोलन की शपथ दिलाई।डॉक्टर सुनीलम ने सभा के दौरान सभी किसान साथियों से आत्महत्या ना करने का प्रण भी लिया।डॉक्टर सुनीलम ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने किसानों को तस्कर कहा है इसके लिए मध्यप्रदेश सरकार किसानों से माफ़ी माँगें और 600 किसानों पर दर्ज मुकद्दमे वापस लिया जायें। विदित हो कि किसान मुक्ति यात्रा से घबराई हुई सरकार ने 4 जुलाई को ही शाम में आंदोलन के किसान नेता डॉक्टर सुनीलम को गिरफ्तार कर लिया था।इस किसान आन्दोलन के कड़े आक्रोश के बाद मध्यप्रदेश सरकार 5 जुलाई को डॉक्टर सुनीलम को छोड़ने पर मजबूर हुई।

कल रात में रिछालाल मुहा में किसान सभा आयोजित हुई।सभा के दौरान योगेंद्र यादव ने कहा कि हमें कर्ज माफ़ी नही कर्ज मुक्ति चाहिए।किसान देश को हर साल ढाई लाख करोड़ का कर्ज देता है हमें सरकार से वही वापस चाहिए बस।सभा को सम्बोधित करते हुए वीएम सिंह ने कहा कि यह देश किसानों का है और इस देश में किसानों की ही सरकार बनेगी।किसान नेता अविक साहा ने कहा कि हम मंदसौर के किसानों की शहादत को जाया नही होने देंगे और किसान को उसका हक दिला कर मानेंगे।

AIKSCC द्वारा आयोजित आज दूसरे दिन की किसान मुक्ति यात्रा शुरू हो चुकी है।आज सुबह की यात्रा की शुरुआत रिछलाल मुहा से हुई।आज का पहली जनसभा कचरोड़ में हुई।कचरोड़ में किसानों का भरपूर समर्थन मिला।कचरोड़ की जनसभा को सम्बोधित करते हुए महाराष्ट्र के किसान नेता रविकांत टुपकर ने कहा कि हम पूरे देश को विदर्भ नही बनने देंगे और किसान के हित में लड़ाई रखेंगे।किसान नेता और लोकसभा सांसद राजू शेट्टी ने कहा कि मैं किसानों की दो मुख्य कर्ज मुक्ति और ड्योढ़े दाम की माँग को संसद में रखूँगा और इन माँगो को पूरा करने के लिए सरकार को मजबूर करूँगा।

आज दिन की दूसरी जनसभा देवास में हुई।किसान भाइयों और बहनों का भरपूर समर्थन मिला। दक्षिण भारत के किसान नेता किरन बिस्सा ने देवास में सभा को सम्बोधित करते हुए स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशें लागू करने की माँग की वहीं जनसभा में बोलते हुए वीएम सिंह ने कहा कि हम किसानों के लिए हर तरह की फ़सल पर न्यूनतम समर्थन मूल्य की माँग की करते हैं।विदित हो कि सरकार लगातार आन्दोलन को कुचलने के लिए साज़िश कर रही है और स्थानीय कार्यकर्ताओं को धमकियां भी दे रही है।सरकार की इन कार्यविधियों के जवाब में डॉक्टर सुनीलम ने कहा कि हम सरकार की गीदड़ घुड़कियों से डरने वाले नही हैं।हम अंतिम सांस तक किसानों के हित में आवाज उठाते रहेंगे।

किसान नेताओं ने तय किया है कि किसान मुक्ति यात्रा का प्रत्येक दिन भारत के एक महान किसान नेता को समर्पित होगा।आज के दिन 7 जुलाई को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को समर्पित किया।गाँधी जी ने ऐतिहासिक चंपारण सत्याग्रह में किसान अधिकारों के लिए संघर्ष किया था।आज सभी किसान नेताओं ने उन्हें याद किया और आज की यात्रा उनको समर्पित की।

AIKSCC के सभी किसान नेता वी एम सिंह,अय्याकन्नू, राजू शेट्टी,हन्नान मुल्ला,रामपाल जाट,योगेंद्र यादव,डॉक्टर सुनीलम,दर्शन पाल,के चंद्रशेखर,कविता कुरुगाती,अविक साहा यात्रा में शामिल रहे।यह किसान मुक्ति यात्रा 6 राज्यों से होती हुई 18 जुलाई को दिल्ली में जंतर-मंतर पहुँचेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here