आज से 15 दिन तक लगातार मंगल यान अपने निर्णय खुद लेगा, इसरो से नहीं रहेगा सम्पर्क में ..

0
174

मंगल ग्रह पर अतिरिक्त अवधि के लिए रुका हुआ देश का कम लागत वाला मंगल मिशन सोमवार से उपग्रह से संचार तोड़ते हुए ‘ब्लैकआउट’ चरण में प्रवेश करेगा।

आठ से 22 जून तक सूर्य मंगल और पृथ्वी के बीच के संचार को रोकेगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एमओएम इस अवधि के दौरान एक ‘स्वतंत्र मोड’ में चला जाएगा और अपने फैसले लेगा।

उन्होंने कहा, ‘पहली बार ऐसा होगा कि करीब 15 दिन की इतनी लंबी अवधि के लिए संचार ठप रहेगा। इस अवधि में उपग्रह के साथ कोई संचार नहीं होगा।’

Mars Maven_AHUJ

इस ‘ब्लैकआउट’ अवधि के पूरा होने के बाद उपग्रह पर फिर से नियंत्रण हासिल करने का विश्वास जताते हुए अधिकारी ने कहा, ‘इस परिदृश्य का परीक्षण पहले किया जा चुका है। संचार दोबारा स्थापित होगा।’

अतिरिक्त ईंधन की वजह से मार्च महीने में अंतरिक्षयान की अवधि छह महीने के लिए और बढ़ा दी गई थी। इसरो अधिकारी ने कहा कि मंगलयान को ब्लैकआउट के लिए तैयार किया जा चुका है।

उन्होंने कहा, ‘हम अब अंतरिक्षयान को कोई निर्देश नहीं भेज रहे हैं। आठ जून तक अंतरिक्षयान को कुछ घंटे के लिए संकेत भेजे जाएंगे, जो हर दिन करीब दो से तीन घंटे के होंगे।’ अगर मिशन की अवधि एक बार फिर बढ़ाई जाती है तो अगले साल मई महीने में भी मिशन फिर से इस तरह के चरण से गुजरेगा, जब सूर्य और मंगल के बीच पृथ्वी होगी।

भारत ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में इतिहास रचते हुए पिछले साल 24 सितंबर को अपने कम लागत वाले मंगलयान को सफलतापूर्वक पहले ही प्रयास में लाल ग्रह की कक्षा में स्थापित किया था और तीन देशों के प्रतिष्ठित क्लब में शामिल हो गया था।

News source- NBT

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

five × 1 =